Monday , December 18 2017

मोदी के बजाय अडवानी को ही अन्नान इक़तिदार पर फ़ाइज़ होना चाहिए

मध्य प्रदेश के चीफ़ मिनिस्टर शीव‌राज चौहान की जानिब से एल के अडवानी को बी जे पी के क़ाइद आला क़रार देते हुए उनकी तारीफ‌ किए जाने के एक दिन बाद इस पार्टी के बुज़ुर्ग क़ाइद को आज मज़ीद एक गोशा से ज़बरदस्त ताईद हासिल हुई।

मध्य प्रदेश के चीफ़ मिनिस्टर शीव‌राज चौहान की जानिब से एल के अडवानी को बी जे पी के क़ाइद आला क़रार देते हुए उनकी तारीफ‌ किए जाने के एक दिन बाद इस पार्टी के बुज़ुर्ग क़ाइद को आज मज़ीद एक गोशा से ज़बरदस्त ताईद हासिल हुई।

शत्रूघं सिन्हा ने उन्हें (अडवानी को) एक ऐसा इंतिहाई तजुरबाकार और पुख़्ता लीडर क़रार दिया जिस को इक़तिदार पर फ़ाइज़ होना चाहिए। ऐसा मालूम होता है कि शुत्रघं सिन्हा ने गुजरात के चीफ़ मिनिस्टर नरेंद्र मोदी को वज़ीर-ए-आज़म के ओहदा के लिए इमकानी उम्मीदवार बनाए जाने की कोशिशों पर अपनी पार्टी में नाराज़गी और मुख़ालिफ़त में होने वाली सरगर्मियों की ताईद में ये बयान दिया है।

शुत्रघं सिन्हा ने मज़ीद कहा कि पार्लियामानी बोर्ड के ज़रिया अगर किसी को (वज़ीर-ए-आज़म) मुंतख़ब किया जाता है तो ये बहुत ख़ूब होगा। शुत्रघं सिन्हा ने कहा कि वो हनूज़ इस बात पर अटल हैं कि नरेंद्र मोदी अगरचे बहुत ज़्यादा मक़बूल हैं लेकिन मीडिया का शुक्रिया और इन सब का शुक्रिया जिन्हों ने इन (मोदी) के बारे में जिस किस्म का हवा खड़ा किया था।

उस ने निमटने में वो काफ़ी कामयाब रहे हैं। पटना साहिब के बी जे पी रुकन लोक सभा शुत्रघं सिन्हा ने अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए कहा कि अगर उन को बी जे पी पार्लियामानी बोर्ड के इजलास में वज़ीर-ए-आज़म का उम्मीदवार बना कर पेश किया जाता है तो और भी बेहतर रहेगा लेकिन हमारा क़तई नुक़्ता-ए-नज़र यही है कि अन्नान इक़तिदार पर बहरहाल अडवानी साहब को ही फ़ाइज़ होना चाहिए।

शुत्रघं सिन्हा ने कहा कि अडवानी एक मुदब्बिर हैं। वो एक इंतिहाई आज़मूदा, तजुरबाकार-ओ-पुख़्ताकार शख़्स हैं और मेरे लिए वो हमेशा ही एक क़तई लीडर रहे हैं। शुत्रघं सिन्हा ने मज़ीद कहा कि उन्हों ने (अडवानी) ने वज़ीर-ए-आज़म कीअहदा का कभी कोई मुतालिबा नहीं किया।

हम दुआ करते हैं कि पार्लियामानी बोर्ड की तरफ़ से जिस किसी को भी वज़ारत-ए-उज़मा का उम्मीदवार बनाने का फ़ैसला किया जाता है उस को मिस्टर अडवानी का आशीर्वाद हासिल रहे। इस सवाल पर कि आया अडवानी को वज़ारत-ए-उज़मा के ओहदा के लिए दौड़ में शामिल रहना चाहिए।

शुत्रघं सिन्हा ने जवाब दिया कि तदब्बुर-ओ-फ़िरासत के मुआमले में इन (अडवानी) से बेहतर कोई और शख़्स नहीं हो सकता। वो अडवानी ही थे जिन्हों ने लोक सभा में बी जे पी की अददी क़ुव्वत को 2 से बढ़ा कर 200 तक पहूँचा या था। सिन्हा के इस तबसरा से एक दिन पहले मध्य प्रदेश के चीफ़ मिनिस्टर शीव‌राज चौहान ने गुजिश्ता रोज़ उज्जैन में अपनी जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान अडवानी को बी जे पी के रहबर आला क़रार दिया था उन की यात्रा में बिशमोल अडवानी कई बी जे पी क़ाइदीन के पोस्टर्स थे लेकिन नरेंद्र मोदी का कोई पोस्टर या तस्वीर नहीं थी।

TOPPOPULARRECENT