Saturday , September 22 2018

मोदी को क्लीनचिट अदालती हुक्म नहीं कांग्रेस के तर्जुमान का ब्यान

बी जे पी अदालत के फ़ैसले को चीफ़ मिनिस्टर गुजरात के लिए बड़ी राहत के तौर पर पेश कर रही है लेकिन कांग्रेस ने आज मुख़्तलिफ़ नुक़्ता-ए-नज़र पेश करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट की मुक़र्रर कर्दा एस आई टी ने नरेंद्र मोदी को गुलबर्ग क़त्ल-ए-आम म

बी जे पी अदालत के फ़ैसले को चीफ़ मिनिस्टर गुजरात के लिए बड़ी राहत के तौर पर पेश कर रही है लेकिन कांग्रेस ने आज मुख़्तलिफ़ नुक़्ता-ए-नज़र पेश करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट की मुक़र्रर कर्दा एस आई टी ने नरेंद्र मोदी को गुलबर्ग क़त्ल-ए-आम मुक़द्दमा में क्लीन चिट दी है ।

ये अदालत का हुक्म नहीं है । पार्टी के तर्जुमान राशिद अलवी ने बी जे पी के रद्द-ए-अमल पर तब्सिरा करते हुए प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि अदालतें सी बी आई की रिपोर्ट कुबूल नहीं करतीं लेकिन सुबूतों की अदमे मौजूदगी की वजह से मुक़द्दमा ख़ारिज कर देती हैं ।

उन्होंने कहा कि इस वक़्त के वज़ीर-ए-आज़म अटल बिहारी वाजपाई ने भी गुजरात फ़सादाद कुमलक पर एक धब्बा क़रार दिया था । 2002 में जो कुछ हुआ इस से गुजरात हुकूमत और चीफ़ मिनिस्टर की सूरत-ए-हाल पर क़ाबू पाने में नाकामी वाज़िह होती है । इस सवाल पर कि क्या कांग्रेस रियास्ती इंतेख़ाबात में उसे मौज़ू बनाएगी ।

राशिद अलवी ने कहा कि ये पहले ही से एक मौज़ू है।

TOPPOPULARRECENT