Saturday , December 16 2017

मोदी को शादी मामले में मिली क्लीनचिट!

गुजरात पुलिस ने एक मुकामी अदालत को एक रिपोर्ट पेश करके कहा कि हिंदुस्तान के मुस्तकबिल वज़ीर ए आज़म नरेंद्र मोदी ने 2012 के विधानसभा इंतेखाबात के वक्त अपनी शादी शुदा ज़िंदगी (Marital status) के हालात का खुलासा नहीं करके कोई काबिल दस्त अंदाज़ी ज़ुर

गुजरात पुलिस ने एक मुकामी अदालत को एक रिपोर्ट पेश करके कहा कि हिंदुस्तान के मुस्तकबिल वज़ीर ए आज़म नरेंद्र मोदी ने 2012 के विधानसभा इंतेखाबात के वक्त अपनी शादी शुदा ज़िंदगी (Marital status) के हालात का खुलासा नहीं करके कोई काबिल दस्त अंदाज़ी ज़ुर्म नहीं किया है। आप के लीडर निशांत वर्मा ने अदालत में अर्जी दायर करके पुलिस को यह हिदायत देने की मांग की थी कि वह 2012 के इंतेखाबी हलफनामे में शादी शुदा ज़िंदगी के हालात का खुलासा नहीं करने को लेकर मोदी के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करे।

मोदी इससे पहले विधानसभा इंतेखाबात में हलफनामे में शादी शुदा ज़िंदगी को बताने वाला खाना खाली छोड दिया करते थे। इस बार ही उन्होंने वडोदरा लोकसभा सीट के लिए नामजदगी के दौरान अपनी बीवी जसोदाबेन का नाम लिखा और ऐलान किया कि वह शादी शुदा हैं। अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच की ओर से दायर रिपोर्ट में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी की तरफ से इलेक्शन कमीशन के सामने दायर हलफनामे में Marital status का खाना खाली छोडने के लिए उनके खिलाफ काबिल दस्त अंदाज़ी ज़ुर्म नहीं बनता।

यह रिपोर्ट Additional Chief Judicial Magistrate एमएम शेख के सामने पुलिस की तरफ से दाखिल की गई। वर्मा के वकील शमशाद पठान ने कहा कि पुलिस ने उनके मुवक्किल को रिपोर्ट की फोटो कापी नहीं दी। इसके बाद मजिस्ट्रेट ने पुलिस को वर्मा को रिपोर्ट की फोटो कापी देने की हिदायत दी और मामले की अगली सुनवाई सात जून तक के लिए मुल्तवी कर दी।

TOPPOPULARRECENT