मैं खुद को गुनहगार मानता हूं कि मैंने मोदी की मदद की, इनकी बातों का भरोसा न करें : राम जेठमलानी

मैं खुद को गुनहगार मानता हूं कि मैंने मोदी की मदद की, इनकी बातों का भरोसा न करें : राम जेठमलानी
Click for full image

लखनऊ : 2014 के लोकसभा चुनाव में विदेशी बैंकों में जमा कालाधन वापस लाने समेत तमाम वादों के मद्देनजर उन्होंने नरेंद्र मोदी का सहयोग किया था, लेकिन अब वह खुद को इसके लिए गुनहगार और ठगा हुआ महसूस करते हैं। राम जेठमलानी ने कहा कि इस देश का 90 लाख करोड़ रूपए काला धन स्विस बैंक में जमा हैए इस पैसे को वापस देश में लाने के लिए मैं कांग्रेस और भाजपा के नेताओं के घर गया। उनसे मांग करता रहा कि उस पैसे को वापस लाओ। लेकिन कोई भी नेता आगे नहीं बढ़ा।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी कालाधन वापस नहीं लाए, जिसकी उन्हें काफी पीड़ा है। अब ऐसा लगता है कि मोदी अपना वादा पूरा नहीं करेंगे। पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री ने कहा, ‘मैं अपने आपको ठगा हुए महसूस करता हूं और खुद को गुनहगार मानता हूं कि मैंने मोदी की मदद की। मैं आपके बीच यह भी कहने आया हूं कि आप लोग प्रधानमंत्री की बातों का भरोसा ना करें।’

जेठमलानी ने समाजवादी सिन्धी समाज के प्रांतीय अधिवेशन में शिरकत करते हुए कहा कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में उनका भी सहयोग रहा है, क्योंकि इस बीजेपी नेता ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान विदेशी बैंकों में जमा धन को भारत वापस लाने का वादा किया था।

उनके बाद मैंने सुप्रीम कोर्ट से 1400 लोगों के नाम की लिस्ट उजागर करने का आदेश जारी कराया। जब जेठमलानी बोल रहे थेए तो अखिलेश समर्थक चिल्ला रहे थे। वह नारा लगा रहे थेए जेठमलानी को हटाओ और अखिलेश को बुलाओ। मंच के पीछे से उनको हटाने के पर्चे दिए जा रहे हैं।

जेठमलानी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की छवि साफ-सुथरी है और वह देश का भविष्य हैं। सपा के राज्यसभा सदस्य अमर सिंह ने इस अवसर पर कहा कि वह जेठमलानी का बहुत सम्मान करते हैं, क्योंकि वह हमेशा न्याय की बात करते हैं। उन्होंने सिन्धी सभा के प्रतिनिधियों को उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने का आह्वान किया, ताकि समाजवादी पार्टी लगातार दूसरी बार सत्ता में आ सके।

Top Stories