Wednesday , December 13 2017

मोदी चाहते हैं इसराईल के साथ गहरे ताल्लुक़ात-नितिन

हिंदुस्तान के नामज़द वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी ने इसराईल के साथ गहरे और मुस्तहकम रवाबित इस्तवार करने की तवक़्क़ो की ख़ाहिश का इज़हार किया है।

हिंदुस्तान के नामज़द वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी ने इसराईल के साथ गहरे और मुस्तहकम रवाबित इस्तवार करने की तवक़्क़ो की ख़ाहिश का इज़हार किया है।

वज़ीर-ए-आज़म बिंजामिन नितिन याहू ने आज ये बात बताई। उन्हों ने हफ़्तावारी काबीना इजलास के बाद ज़राए इबलाग़ के नुमाइंदों को बताया कि उन्होंने जुमे को हिंदुस्तान के मुंतख़बा वज़ीर-ए-आज़म से बात की है। नरेंद्र मोदी ने उनसे इसराईल के साथ गहरे मआशी रवाबित की ख़ाहिश का इज़हार किया है।

इसराईल जुनूबी एशिया में हिंदुस्तान को अपना एक अहम हलीफ़ तसव्वुर करता है चुनांचे नितिन याहू ने इंतिख़ाबी नतीजे सामने आते ही मोदी से रब्त क़ायम करने में ताख़ीर नहीं की। वो एशिया के साथ मआशी मुस्तहकम ताल्लुक़ात के ख़ाहां हैं और इमकान है कि इसराईल बरामदात के मुआमला में बहुत जल्द अमरीका को भी पीछे छोड़ देगा।

इसराईल के वज़ीर-ए-आज़म एरीयल शार्विन ने 2003 में हिंदुस्तान का दौरा किया था और बी जे पी के सरकर्दा लीडर्स एल के अडवानी-ओ-जसवंत सिंह से मुलाक़ात की थी। इसराईल ने कारगिल जंग में भी हिंदुस्तान की मदद की जिस के बाद दोनों ममालिक के माबैन दिफ़ाई तआवुन में काफ़ी इज़ाफ़ा हुआ।

TOPPOPULARRECENT