Sunday , December 17 2017

मोदी फेंकू, मुलायम धृतराष्ट्र तो प्रियंका दुर्गा- ऐसे विवादास्पद पोस्टरों का हसीब बना रहे हैं अनोखा रिकार्ड

मलिक असग़र हाशमी, लखनऊ:  इलाहाबाद कांग्रेस महासचिव हसीब अहमद एक नया रिकार्ड बना रहे हैं। रिकार्ड है, विवादास्पद पोस्टर जारी करने और चिपकाने का। यह वही शख्स हैं जिन्होंने एक पोस्टर में प्रियंका गांधी को दुर्गा देवी के अवतार के रूप में पेश किया था।

अब उनके एक अन्य पोस्टर में सपा मुखिया धृतराष्ट्र के रूप में दिखाए गए हैं। इस पर मोटे-मोटे अक्षर में लिखा है…भृष्ट मंत्री पर मेहरबान धृतराष्ट्र मुलायम। सियासी हल्के में हसीब के पोस्टर हमेशा से चर्चा में रहे हैं। इलाहबाद के दरो-ओ-दीवार पर जब भी उनका कोई पोस्टर चिपकता है राजनीतिक दलों में खलबली मच जाती है। कई बार तो कांग्रेस को भी हसीब अहमद के पोस्टरों से असहज होना पड़ा।

प्रियंका गांधी पर उनके एक पोस्टर को लेकर पार्टी ने उन्हें निलंबित भी कर दिया था। विधासभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में जब हलचल शुरू हुई तो हसीब अहमद ने रातों रात अपनी तस्वीरों वाले पोस्टर पूरे इलाहबाद में चिपक्वा दिए। इस पोस्टर में प्रियंका गांधी देवी दुर्गा के तौर पर पेश की गई थीं। इस पोस्टर में मोटे अक्षरों में लिखा था। हिंदुस्तान की शेरनी…वो इंदिरा, वो दुर्गा। इस पोस्टर पर भाजपा ने खासा हंगामा मचाया था। मगर हसीब कहाँ मानने वाले। उन्होंने भजपा पर ही ताबड़ तोड़ कई पोस्टर जारी कर दिए।

इलाहबाद और फूलपुर में बाढ़ और वहां के सांसदों के बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे नहीं आने पर उनके नाम से गुमशुदगी का ही पोस्टर जारी कर दिया था। फूलपुर से सांसद एवं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या पर लगाये गए पोस्टर में तंज़ किया गया था…गुमशुदा को तलाशने वाले को मिलेगा पांच किलो फूलगोभी और पांच किलो आलू। जून में इलाहबाद में आयोजित भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को लेकर शहर में लगाये गए पोस्टर भी काफी चर्चित रहे थे।

पोस्टर में भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को ‘फेंकू दिवस ‘बताया गया था। साथ ही पोस्टर पर वैरोडि लिखी थी…बहारों फूल बरसाओ मेरा फेंकू आया है। इस पोस्टर में प्रधानमंत्री मोदी उड़ते हुए दिखाए गए थे। इस तरह के विवादास्पद पिस्टर निकालने के बारे में हसीब अहमद का तर्क है कि चुटीली बातों से संबंधित और आम लोगों तक पहुंचना हमेशा आसान होता है। वह पिछले चार-पांच सालों से यह काम कर रहे हैं। उधर, भाजपा नेताओं का ऐसे पोस्टरों के बारे में कहना है, यह सब कांग्रेस का सियासी स्टंट है। इससे चुनाव नहीं जीते जा सकते।

TOPPOPULARRECENT