मोदी मुझसे पैसा लेने के लिए बैंकों को आदेश क्यों नहीं देते: विजय माल्या

मोदी मुझसे पैसा लेने के लिए बैंकों को आदेश क्यों नहीं देते: विजय माल्या

बैंकों से 9,000 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी करने के मामले में फरार शराब कारोबारी विजय माल्या ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह अपने बैंकों को मुझसे पैसे लेने का निर्देश क्यों नहीं दे रहे हैं?

माल्या ने बुधवार को संसद में प्रधानमंत्री मोदी के भाषण के बाद सिलसिलेवार कई ट्वीट कर बकाए राशि की रकम लौटाने की बात कही.

माल्या ने ट्वीट कर कहा, ‘प्रधानमंत्री का बुधवार को संसद में दिया भाषण सुना. वह यकीनन एक बेहद वाकपटु वक्ता हैं. उन्होंने भाषण में 9,000 करोड़ रुपये लेकर भागने वाले एक शख़्स का जिक्र किया. मीडिया में कही-सुनी गई बातों से मैं अंदाज़ा लगा सकता हूं कि उनका इशारा मेरी तरफ़ था.’

माल्या ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं सम्मानपूर्वक प्रधानमंत्री से पूछ रहा हूं कि जब मैं  कर चुका हूं, फिर प्रधानमंत्री अपने बैंकों को मुझसे पैसे लेने का निर्देश क्यों नहीं दे रहे हैं, ताकि वह किंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए कर्ज की पूरी वसूली का कम से कम दावा तो कर सकें.’

माल्या की यह प्रतिक्रिया बुधवार को संसद में प्रधानमंत्री मोदी के उस भाषण के बाद आई है, जिसमें उन्होंने 9,000 करोड़ रुपये लेकर फरार हुए एक शख़्स का जिक्र किया था.

माल्या ने कहा,  ‘मैं बकाया राशि के भुगतान की पेशकश कर्नाटक हाईकोर्ट के समक्ष कर चुका हूं. इसे हल्के में खारिज नहीं किया जा सकता. यह पूरी तरह से वास्तविक, गंभीर, ईमानदार और तत्काल हासिल करने वाली पेशकश है. बैंक किंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए पैसे क्यों नहीं ले रहे.’

उन्होंने कहा, ‘मैं मीडिया में आई ईडी की उन मीडिया रिपोर्टों से व्यथित हूं, जिसमें कहा गया है कि मैंने अपनी संपत्ति छिपाई है? अगर मैंने अपनी संपत्ति छिपाई होती तो लगभग 14,000 करोड़ रुपये की संपत्ति को मैंने अदालत में खुले तौर पर कैसे रखा? लोगों में शर्मनाक तरीके से भ्रम फैलाया गया लेकिन यह अचंभित करने वाला नहीं है.’

सीबीआई ने 1,600 करोड़ रुपये के कर्ज के पुनर्भुगतान में कथित अनियमितता के लिए माल्या के खिलाफ अगस्त 2016 में एक मामला दर्ज किया था.

मालूम हो कि ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने चार फरवरी को  की मंजूरी दे दी थी. हालांकि माल्या ने इस प्रक्रिया के खिलाफ अपील करने का फैसला किया.

गौरतलब है कि बीती दो जनवरी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम के तहत . माल्या पर भारतीय बैंकों के करोड़ों रुपये बक़ाया हैं और वह साल 2016 से ब्रिटेन में रह रहे हैं.

Top Stories