Thursday , December 14 2017

मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों व ग़लत कार्यप्रणाली के कारण इंसानों के जान की कीमत जानवरों से भी सस्ती: मायावती

नई दिल्ली: बीएसपी अध्यक्ष  मायावती ने बीजेपी सरकार द्वारा बसों व सरकारी ईमारतों आदि का रंग बदलने के कामों को ही राजधर्म मानकर व्यर्थ में समय व संसाधन बर्बाद करने की तीखी आलोचना करते हुये कहा कि जबकि प्रदेश सरकार जनहित व जनकल्याण के मामले में घोर लापरवाह बनी हुयी है तथा अस्पतालों में इलाज के अभाव में हजारों लोग रोज अपनी जान गवाँ रहे हैं और लाखों घर उजड़ रहे है।

इसके साथ ही रायबरेली जिले के ऊँचाहार स्थित एन.टी.पी.सी. के बिजली घर में अभी हाल ही में हुये भयानक विस्फोट और उसमें हुई व्यापक जान-माल की हानि को बीजेपी सरकारों की घोर आपराधिक लापरवाही का परिणाम बताते हुये उन्होंने कहा कि बीजेपी की श्री नरेन्द्र मोदी व श्री योगी सरकार की जनविरोधी नीतियों व ग़लत कार्यप्रणाली के कारण इन्सानों की जानों की कीमत कुछ नहीं रहकर जानवरों से भी सस्ती होकर रह गयी है जो देशहित के विरुद्ध सर्वसमाज के लिये बड़ी ही चिन्ता की बात है।

चाहार बिजली संयन्त्र के बायलर विस्फोट में मारे गये करीब 32 लोगों व घायल हुये सैकड़ों लोगों के परिवारों के प्रति गहरा दुःख व गहरी संवेदना व्यक्त करते हुये मायावती ने एक बयान में कहा कि बीजेपी की केन्द्र व उत्तर प्रदेश सरकार जनहित व जनकल्याण के मामले में लगातर विफल साबित हो रही है तथा इनकी आपराधिक लापरवाही के कारण बड़ी-बड़ी जानलेवा दुर्घटनायें बराबर हो रही हैं जिससे जान-माल के साथ-साथ देश की सम्पत्ति व संसाधन की भी भारी क्षति हो रही है, लेकिन कुल मिलाकर बीजेपी सरकारें पूरी तरह से बेपरवाह, गैर-जिम्मेदार व  असंवेदनशील बनी हुई हैं।

इसी क्रम में ऊँचाहार बिजली संयन्त्र दुर्घटना को भी पूरी गम्भीरता से नहीं लेकर इसे केवल एक घटना मानने की कर्तव्य उदासीनता बरती जा रही है जबकि यह भीषण दुर्घटना देश के विकास व बिजली आपूर्ति पर एक बड़ा आघात है।

मायावती ने कहा कि बीजेपी के नेता व मन्त्रीगण केवल सस्ती लोकप्रियता प्राप्त करने के साथ-साथ अपना नाम व फोटो अख़बारों में छपवाने के लिये अनेकों प्रकार के विवादित व ग़ैर-जिम्मेदाराना बयान देने रहने में ही व्यस्त नजर आते हैं और उन पर किसी का भी किसी प्रकार का कोई नियन्त्रण व अंकुश नहीं है क्योंकि ये सब अनर्गल उन लोगों ने अपने वरिष्ठ नेताओं से ही सीखा है जो आज भी दुर्भावना व द्वेष की राजनीति करते रहने को ही देशसेवा समझते हैं जबकि इससे देश का बड़ा अहित होता चला जा रहा है एवं जनहित व जनकल्याण व्यापक स्तर पर प्रतिदिन प्रभावित हो रहा है।

इतना ही नहीं बल्कि अपराध-नियन्त्रण व क़ानून-व्यवस्था के मामले में भी बीजेपी सरकारों की कोताही व लापरवाही से आमजनता का जन-जीवन लगातार बद-से-बदतर होता जा रहा है, परन्तु ख़ासकर उत्तर प्रदेश सरकार गोरक्षा को ही जनहित व जनसेवा समझकर अपने कर्तव्यों से विमुख हो गयी लगती है। बीजेपी सरकार की जनहित के मामलों में ऐसी घोर आपराधिक लापरवाही की जितनी भी निन्दा की जाये वह कम है।

TOPPOPULARRECENT