मोदी सरकार को जनता सिखाए सबकः अन्ना हजारे

मोदी सरकार को जनता सिखाए सबकः अन्ना हजारे

कोटा
सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने लोगों से किसान विरोधी नीतियों के लिए केंद्र की एनडीए सरकार को सही सबक सिखाने की अपील की।उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार लुभावने वादों के जरिए सत्ता में आने के बाद किसानों के हित में कदम उठाने में असफल रही है। हजारे ने कहा, ‘मोदी सरकार किसानों के हित में काम करने में नाकामयाब रही जबकि वह लोगों से लुभावने वाद करके ही सत्ता में आई। मोदी सरकार किसानों से ज्यादा उद्योगपतियों के लिए चिंतित है।’

वह शुक्रवार को कोटा के अन्ना चौक पर एक सार्वजनिक सभा को संबोधित कर रहे थे। वहां उनका विभिन्न सामाजिक और व्यापारिक संगठनों ने गर्मजोशी से स्वागत किया। भारत की हालत गंभीर और चिंताजनक बताते हुए अन्ना ने कहा कि लोकतंत्र में सरकारी की चाबी जनता के हाथों में होती है। और उसे सरकार को लोकतांत्रिक तरीके से ही सबक सिखानी चाहिए।

हजारे ने कहा कि देश के किसानों को उनका उचित हक नहीं मिल रहा है।  उन्होंने सरकार से कृषि आयोग  गठित करके इसे संवैधानिक दर्जा देने की मांग की।  अन्ना ने कहा कि वह किसानों से जुड़े इन्हीं सारे मुद्दों पर 23 मार्च से दिल्ली के रामलीला मैदान में सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ेंगे। उन्होंने भ्रष्टाचार की ताजा घटना पर भी प्रधानमंत्री से सवाल किया। हजारे ने कहा, ‘मोदी ने खुद कहा था कि न खाऊंगा और न खाने दूंगा, लेकिन भ्रष्टाचार के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। इससे उनके काम-काज के तरीकों पर सवाल उठ रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘अब वक्त लोगों के जागरूक होने का है और उन्हें लोकतांत्रिक तरीके से ऐसी सरकार ही चुननी चाहिए जो आम जनता की भलाई के लिए काम कर सके।’

Top Stories