Monday , January 22 2018

मोदी सरकार में मुसलमान और दलित निशाना

लखनऊ: गाय की रक्षा के लिए कानूनी क्षेत्र में काम करने वाले ” कई अच्छे लोगों ‘का समर्थन करने वाले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की टिप्पणी की निंदा करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज कहा कि अवैध ‘हिंसक ढंग से और जाति के आधार पर काम करने वालों की प्रशंसा करने के लिए राष्ट्रीय हित का काम करार नहीं दिया जा सकता।

मायावती ने अपने एक बयान में कहा कि सार्वजनिक भावनाओं के खिलाफ जाते हुए और गौ रक्षको समर्थन राष्ट्रीय हित का काम करार नहीं दिया जा सकता क्योंकि यह गौ रक्षक अवैध तरीके से और हिंसक तरीके से जाति के आधार पर काम करते हैं। वास्तविक गौ रक्षको की पहचान करने भागवत के बयान को उन्होंने पक्षपातपूर्ण सांप्रदायिक मानसिकता करार दिया और कहा कि आरएसएस को गौ सेवा अहिंसा की प्रक्रिया पर विचार करना चाहिए न कि गौरक्षा-पर।

गौ रक्षा-नाम में हिंसा है उसी से ओना जैसी घटनाओं होते हैं। यह आरोप लगाते हुए कि गांव रक्षा-नाम पर हिंसा भाजपा शासित राज्यों में पेश आ रहे हैं मायावती ने कहा कि जब से मोदी सरकार सत्ता में आई थी पहले मुसलमानों को और अब दलितों को गाय के संरक्षण के नाम पर निशाना बनाया जा रहा है। इस सब के बावजूद आरएसएस प्रमुख गौ रक्षा-वालों का समर्थन कर रहे हैं|

TOPPOPULARRECENT