Monday , December 18 2017

मोदी हुकूमत मुसलमानों में ख़ौफ़ पैदा कर रही है

हैदराबाद 30 नवंबर: सी पी आई एम जनरल सेक्रेटरी सीताराम यचोरी ने हुक्मराँ बी जे पी पर इल्ज़ाम आइद किया कि वो मुसलमानों में ख़ौफ़ पैदा कर रही है।

मुल्क में फ़िर्कापरस्तों की सरपरस्ती और हौसला-अफ़ज़ाई के ज़रीये ख़ौफ़ का माहौल पैदा किया जा रहा है। इस वक़्त मुल्क के मुसलमानों और दलितों के ज़हनों में ख़ौफ़नाक अंदेशे पैदा हो चुके हैं। यचोरी ने कहा कि बी जे पी दरअसल मुसलमानों पर हमले करने के साथ साथ फ़िर्क़ापरस्तों की हौसला-अफ़ज़ाई कर रही है।

दलितों पर मज़ालिम हो रहे हैं ये आम बात हो गई। ये तबक़ात अपनी ज़िंदगीयों को ख़तरा महसूस करते हुए ख़ौफ़ के माहौल में सांस ले रहे हैं। उन्हें डर हैके वो क्या खाए और क्या ना खाए। हमारे मुल्क का सेक्युलर तबाह हो रहा है।

अदम रवादारी के काबिल-ए-मज़म्मत वाक़ियात रोनुमा हो रहे हैं। कमीयूनिसट पार्टी आफ़ इंडिया मारकसट (सी पी आई एम ) ने मुल्क में बरसर-ए-इक़तेदार बी जे पी ज़ेरे क़ियादत मोदी हुकूमत को हदफ़-ए-मलामत बनाया और कहा कि नरेंद्र मोदी के इक़तेदार सँभालने के बाद मुल्क के हालात ना सिर्फ तबदील हो चुके हैं बल्कि इंतेहाई अबतर हो चुके हैं।

संगारेड्डी में तेलंगाना रियासती सी पी आई एम कमेटी के मुनाक़िदा कांफ्रेंस का इफ़्तेताह करते हुए क़ौमी जनरल सेक्रेटरी सी पी आई एम सीताराम यचोरी ने ये बात कही। उन्होंने कहा कि मुल्क में फ़िर्कापरस्ती को खुली छूट दी गई है।

सीताराम यचोरी ने पार्टी पर्चमकुशाई अंजाम दी। उन्होंने मर्कज़ी हुकूमत को अपनी सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाया और कहा कि मुल्क भर में किसानों के ख़ुदकुशी वाक़ियात में 19 फ़ीसद का इज़ाफ़ा हुआ है।

उन्होंने नरेंद्र मोदी के बैरूनी ममालिक दौरों को अपनी सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाया और कहा कि रोज़ बरोज़ उनके बैरूनी ममालिक दौरों में इज़ाफ़ा ही होता जा रहा है। किस मुल्क को कब्जा रहे हैं इस का पता तक नहीं चल रहा है।

यचोरी ने बाएं बाज़ू जमातों की जद्द-ओ-जहद का तज़किरा करते हुए कहा कि साबिक़ में जिस तरह की जद्द-ओ-जहद-ओ-मुहिम चलाई जाती थीं इस से कहीं ज़्यादा अब जद्द-ओ-जहद करने की ज़रूरत है।

रियासत तेलंगाना में भी बड़े पैमाने पर पर तबदीलीयां लाने के लिए तफ़सीली ग़ौर-ओ-ख़ौस और मबाहिस किए जाऐंगे और फ़राग़े बढ़ने के लिए इक़दामात किए जाऐंगे। उन्होंने कहा कि मुल्क के मौजूदा हालात पर बाज़ अहम फ़ैसले करने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT