Sunday , December 17 2017

मोबाइल टावर लगाने के नाम पर फर्जीवाड़ा, दो गिरफ्तार

दारुल हुकूमत में मोबाइल टावर लगाने का फर्जी गिरोह सरगर्म हो गया है। गिरोह के मेम्बर झांसा देकर भोले-भाले लोगों को अपने ठिकानों पर बुला रहे हैं और फिर यरगमाल बना कर रंगदारी वसूल रहे हैं।

दारुल हुकूमत में मोबाइल टावर लगाने का फर्जी गिरोह सरगर्म हो गया है। गिरोह के मेम्बर झांसा देकर भोले-भाले लोगों को अपने ठिकानों पर बुला रहे हैं और फिर यरगमाल बना कर रंगदारी वसूल रहे हैं।

मंगल की देर रात सर्विलांस से मोबाइल ट्रेस होने के बाद शास्त्रीनगर पुलिस ने पुनाईचक में छापेमारी करके दो लोगों को दबोच लिया, जबकि दो दीगर भागने में कामयाब रहे। इस दौरान यरगमाल बनाये गये कटिहार के नौजवान को उनके चंगुल से आज़ाद कराया गया। नौजवान ने बताया कि उससे 90 हजार की रंगदारी मांगी जा रही थी। रंगदारी वसूलने वाले गिरोह ने दो घंटे तक उसकी पिटाई की और रंगदारी नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दे रखी थी।

एक पखवारे पहले कटिहार के रहने वाले मोहम्मद सकूर का मोबाइल नंबर टावर लगाने के फर्जी गिरोह के हाथ लग गया था। गिरोह के मेम्बर उससे मुसलसल बात कर रहे थे और उसे मोबाइल टॉवर लगाने का सब्जबाग दिखा रहे थे। बातचीत के दौरान सकूर उनके झांसे में आ गया। मंगल को गिरोह के मेंबरों ने 90 हजार रुपये लेकर पटना के पुनाईचक में उसे बुलाया था। लेकिन, सकूर बिना पैसा लिये पुनाईचक पहुंच गया। इस दौरान पुनाईचक में ही एक मकान में फर्जी गिरोह के चार मेंबरों ने उसे यरगमाल बना लिया। उसकी तलाशी ली तो उसके पास रुपये नहीं मिले। इस पर गिरोह के मेंबरों ने उसकी पिटाई करनी शुरू कर दी। मुजरिमों के दरमियान घिर जाने से सकूर ने अपने घर के किसी मेम्बर से मोबाइल फोन पर उनकी बात करायी और रंगदारी की रकम देने की बात कही। इस पर फौरन घर के लोगों ने पटना के शास्त्रीनगर पुलिस को इत्तिला दे दी।

TOPPOPULARRECENT