मौजूदा हालात में पाकिस्तान से क्रिकेट नामुम्किन

मौजूदा हालात में पाकिस्तान से क्रिकेट नामुम्किन
हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच‌ क़रीब में बाहमी क्रिकेट सीरीज़ के इमकानात को रद‌ करते हुए बी सी सी आई के जुवाइंट सेक्रेटरी अनुराग ठाकुर ने कहा कि दोनों ममालिक की सरहदों पर मौजूदा कशीदा हालात के पेशे नज़र फ़िलहाल दोनों ममालिक के बीच‌

हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच‌ क़रीब में बाहमी क्रिकेट सीरीज़ के इमकानात को रद‌ करते हुए बी सी सी आई के जुवाइंट सेक्रेटरी अनुराग ठाकुर ने कहा कि दोनों ममालिक की सरहदों पर मौजूदा कशीदा हालात के पेशे नज़र फ़िलहाल दोनों ममालिक के बीच‌ क्रिकेट नामुमकिन है।

पी टी आई को दिए गए अपने एक ख़ुसूसी इंटरव्यू में अनुराग ने कहा कि हर कोई हिंद-पाक क्रिकेट मुक़ाबलों का मुतमन्नी है लेकिन सरहद पर हमारे फ़ौजी हलाक किए जा रहे हैं। जब तक कि पाकिस्तानी फ़ौज और आई एस आई अपनी कार्यवाईयां बंद नहीं करदे तब तक किसी किस्म की क्रिकेट नहीं खेली जाएगी क्योंकि क़ौमी सेक्योरिटी से बढ़ कर कोई खेल नहीं है।

इंडियन प्रीमियर लीग में हालिया हुए स्पाट फिक्सिंग तनाज़ा के ज़िमन में इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए बी सी सी आई के जुवाइंट सेक्रेटरी अनुराग ने कहा कि इस तनाज़ा से निमटने और क्रिकेट को सट्टा बाज़ी और स्पाट फिक्सिंग से पाक करने केलिए सख़्त तरीन क़वानीन बनाए जा रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसीएश‌ण (एच ई सी ए) के सदर अनुराग ठाकुर ने मज़ीद कहा कि आई पी एल में हिंदुस्तानी क्रिकेट को बहुत कुछ दिया है लेकिन ये भी हक़ीक़त है कि स्पाट फिक्सिंग तनाज़ा की वजह से उस की साख मुतास्सिर हुई है। अनुराग के मुताबिक‌ आई पी एल को खोया हुआ मुक़ाम फिर एक मर्तबा खिलाड़ी ही दिलवा सकते हैं लेकिन स्पाट फिक्सिंग तनाज़ा में जो कोई भी ख़ाती पाया जाएगा उसे सख़्त सज़ा-ए-देते हुए आने वाले नसल के खिलाड़ियों केलिए एक मिसाल क़ायम की जाएगी।

अनुराग ने ये भी मांग‌ किया कि फिक्सिंग और सट्टा बाज़ी केलिए मुल्क में मुख़्तलिफ़ क़वानीन होने चाहिए। अनुराग ने ये भी इमकानात को भी मुस्तर्द नहीं किया कि आइन्दा साल‌ मुजव्वज़ा आम इंतिख़ाबात के पेशे नज़र आई पी एल को किसी और मुक़ाम पर मुंतक़िल कर दिया जाएगा।

अनुराग का कहना है कि मुल्क में आम इंतिख़ाबात और आई पी एल के दूसरे मुक़ाम पर मुंतक़ली का मसला बी सी सी आई के सालाना आम इजलास में मौज़ू बहस रहेगा जोकि 29 सितंबर को होरहा है। आम इंतिख़ाबात की तवारीख़ का हनूज़ ऐलान नहीं किया गया है और नवंबर में तारीख़ के ऐलान के बाद इस पर क़तई फ़ैसला किया जाएगा।

ठाकुर ने बी सी सी आई को क़ानून हक़ मालूमात से आगाह‌ रहने के ज़िमन में इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए कहा कि आर टी आई (क़ानून हक़ मालूमात) का इतलाक़ एन जी औज़, मीडिया या सियासी जमातों पर नहीं होता लिहाज़ा बी सी सी आई भी इस क़ानून के तहत की जाने वाले सरगर्मियों की जवाबदेह नहीं।

उन्होंने मज़ीद कहा कि बी सी सी आई क़ानून नहीं बनाती लेकिन वो क़ानून की पासदारी भी करती है। हिमाचल प्रदेश के बी जे पी की पार्लीमेंट में नुमाइंदगी करने वाले अनुराग ने मज़ीद कहा कि बी सी सी आई आर टी आई के तहत किसी को जवाबदेह नहीं। इनका ये बयान दरअसल रियासत के कारपोरीटीव सोसाइटी के रजिस्ट्रार की जानिब से एचपी सी ए को धोका दही और ग़बन के मुआमला में जारी की जाने वाली नोटिस पर रद्द-ए-अमल है।

ठाकुर ने अपने ख़ुसूसी इंटरव्यू में इन इल्ज़ामात को मुस्तर्द कर दिया कि जाली अस्नाद की बुनियाद पर दीगर रियास्तों से ताल्लुक़ रखने वाले खिलाड़ियों को यहां रियासत की राणजी क्रिकेट टीम में शिरकत का मौक़ा फ़राहम किया जा रहा है।

Top Stories