मौज़ा क़ाइल में हलाकतों का एक साल मुकम्मल

मौज़ा क़ाइल में हलाकतों का एक साल मुकम्मल
सख़्त सिक्योरिटी के दरमियान सैंकड़ों लोगों बिशमोल मर्कज़ी वज़ीर संजीव बिल्लियाँ ने आज मौज़ा क़ाइल में दो नौजवानों की हलाकत के पहले साल की तकमील पर इजतिमा में शिरकत की ।

सख़्त सिक्योरिटी के दरमियान सैंकड़ों लोगों बिशमोल मर्कज़ी वज़ीर संजीव बिल्लियाँ ने आज मौज़ा क़ाइल में दो नौजवानों की हलाकत के पहले साल की तकमील पर इजतिमा में शिरकत की ।

यही हलाकतों के बाद गुज़िश्ता साल इस ज़िला और पड़ोसी शामली में फ़सादात‌ फूट पड़े थे । अरकाने ख़ानदान और रिश्तेदारों ने मज़हबी रसूम अदा किए और हवन का एहतिमाम किया।

लग भग एक हज़ार अफ़राद इस में शरीक हुए । भारतीय किसान यूनीयन के सरबराह नरेश टिकेट भी मौजूद थे । मुज़फ़्फ़रनगर डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट कौशल राज शर्मा ने न्यूज़ एजंसी पी टी आई को बताया कि ये मज़हबी तक़रीब पुरअमन तौर पर गुज़र गई , कोई भी नाख़ुशगवार वाक़िया की इत्तिला नहीं मिली है।

ला एंड आर्डर की बरक़रारी के लिए पैरा मिल्ट्री फोर्सेस की 16 कंपनियों को इस इलाक़े में पुलिस‌ वालों के इलावा तैनात किया गया था।

Top Stories