Monday , December 18 2017

म्यांमार के रोहंगिया मुसलमानों पर मज़ालिम की मुज़म्मत

इंसानी हुक़ूक़ के तहफ़्फ़ुज़ के लिए काम करने वाले एक ग्रुप ने म्यांमार हुकूमत की तरफ़ से हज़ारों रोहंगिया मुसलमानों के ख़िलाफ़ मुहिम के नतीजे में उन्हें घरों से निकाल कर कैम्पों में रखने और उनके शहरीयत के हुक़ूक़ ख़त्म करने की मुज़म्मत

इंसानी हुक़ूक़ के तहफ़्फ़ुज़ के लिए काम करने वाले एक ग्रुप ने म्यांमार हुकूमत की तरफ़ से हज़ारों रोहंगिया मुसलमानों के ख़िलाफ़ मुहिम के नतीजे में उन्हें घरों से निकाल कर कैम्पों में रखने और उनके शहरीयत के हुक़ूक़ ख़त्म करने की मुज़म्मत की है।

अमरीकी हुक्काम के मुताबिक़ म्यांमार की नसल प्रस्ताना और ज़ालिमाना कार्यवाईयों पर म्यांमार में मौजूद अमरीकी और दीगर ग़ैर मुल्की सिफ़ारत ख़ानों ने हुकूमत के रोहंगिया मुसलमानों के ख़िलाफ़ मंसूबे के बाअज़ हिस्सों पर तशवीश ज़ाहिर की है।

वाज़ेह रहे रोहंगिया मुस्लमान पिछले कई बरसों से हुकूमत के नसल प्रस्ताना मज़ालिम का निशाना हैं। म्यांमार की आबादी ग्यारह लाख बताई जाती है जिन्हें नसली हवाले से अलग थलग रहने पर मजबूर कर दिया गया है। इस मंसूबे पर अमल के नतीजे में इन ज़ेरे ताब मुसलमानों को अपने इलाक़ों और घरों से बेदख़ल होना होगा।

TOPPOPULARRECENT