Friday , December 15 2017

म्यांमार में मुसलमानों पर फिर हमले , दुकान और मकान नज़र-ए-आतिश

म्यांमार के शुमाल मग़रिबी इलाक़े में फ़िर्कावाराना तशद्दुद भड़क उठा, जहां बुद्धिस्टों के एक बड़े ग्रुप ने मुसलमानों पर हमला करते हुए उनके मकान और दुकान नज़र-ए-आतिश कर दिये।

म्यांमार के शुमाल मग़रिबी इलाक़े में फ़िर्कावाराना तशद्दुद भड़क उठा, जहां बुद्धिस्टों के एक बड़े ग्रुप ने मुसलमानों पर हमला करते हुए उनके मकान और दुकान नज़र-ए-आतिश कर दिये।

पुलिस ने बताया कि एक नौजवान ख़ातून की मुस्लिम शख़्स के ज़रिये इस्मत रेज़ि की अफ़्वाह तेज़ी से फैल गई और देखते ही देखते सारा इलाक़ा तशद्दुद की लपेट में आगया। हुजूम ने पहले पुलिस स्टेशन का मुहासिरा कर लिया और कई घंटों तक एहतिजाज करते हुए मुश्तबा शख़्स को हवाले करने पर ज़ोर दिया लेकिन पुलिस के इन्कार पर ये हुजूम तशद्दुद पर उतर आया।

मुसलमानों के तक़रीबन 35 दुकानों और 12 मकानों को तबाह कर दिया गया। इंतिहापसंद राहिब वराठो ने इस वाक़िये को फेसबुक पर पोस्ट करते हुए सूरत-ए-हाल को मज़ीद अबतर बनादिया। ये वही राहिब है जो मज़हबी तशद्दुद भड़काने में माज़ी में भी पेश पेश रहा। म्यांमार में 2011 में फ़ौजी हुकमरानों ने सिविल हुकूमत को इक़तिदार हवाले किया और इस के बाद से यहां फ़िर्कावाराना तशद्दुद का सिलसिला जारी है। अब तक 250 से ज़ाइद अफ़राद हलाक और एक लाख 40 हज़ार से ज़ाइद अफ़राद बेघर होगए हैं। रोहनगया के मुस्लमानों को भी इस से क़ब्ल तशद्दुद में निशाना बनाया गया था। एक ओहदेदार ने कहा कि तशद्दुद में एक मस्जिद को भी नज़र-ए-आतिश किया गया है।

TOPPOPULARRECENT