Sunday , December 17 2017

मक़्तूल तलबा के जुलूस जनाज़े में हज़ारों अफ़राद शरीक

अमरीका में एक सफ़ैद फ़ाम शहरी के हाथों क़त्ल किए गए तीन पड़ोसी मुस्लिम तलबा की सोगवार फ़ैमिलियों ने अपनी लख्ते जिगर औलाद को मुल्के अदम के लिए जज़बाती अंदाज़ में विदा करते हुए अपने मुतालिबात का इआदा किया कि इस तरह की हलाकतों से नफ़रत पर

अमरीका में एक सफ़ैद फ़ाम शहरी के हाथों क़त्ल किए गए तीन पड़ोसी मुस्लिम तलबा की सोगवार फ़ैमिलियों ने अपनी लख्ते जिगर औलाद को मुल्के अदम के लिए जज़बाती अंदाज़ में विदा करते हुए अपने मुतालिबात का इआदा किया कि इस तरह की हलाकतों से नफ़रत पर मबनी जुर्म के तौर पर निमटा जाए।

अमरीकी रियासत शुमाली कैरोलाइना में क़त्ल कर दिए गए तीन मुसलमान तलबा के जुमेरात को मुनाक़िदा जुलूस जनाज़े में ज़ाइद अज़ 5,000 अफ़राद ने शिरकत की। मक़्तूलीन में शामिल दो नौजवान बहनों के वालिद ने अमरीकी हुक्काम पर ज़ोर दिया है कि वो इस बात का पता लगाऐं कि इस तिहरे क़त्ल के पीछे मज़हबी मुनाफ़िरत तो कारफ़रमा नहीं थी।

23 साला साअदी बरकत, उस की 21 साला बीवी यूसर अबू सालेहा और उस की 19 साला बहन रज़ान अबू सालेहा को मंगल के रोज़ 46 साला क्रेग स्टीफ़न हिक्स ने फायरिंग कर के हलाक कर दिया था।

फेड्रल ब्यूरो ऑफ़ इनवेस्टीगेशन (एफ़ बी आई) ने कहा कि उस ने इन हलाकतों की मुतवाज़ी तहक़ीक़ात भी शुरू करदी है। वफ़ाक़ी तहक़ीक़ात कार अक्सरो बेश्तर नफ़रत पर मबनी मुश्तबा जराइम का जायज़ा लेते हैं जबकि इस तरह के जुर्म साबित होने पर मुजरिम को सख़्त तर सज़ा होती है।

TOPPOPULARRECENT