Monday , December 18 2017

मज़हब की तब्दीली के मामले ने पकडा तूल , बजरंग दल के कारकुनो पर केस दर्ज

उत्तर प्रदेश के आगरा में पीर के रोज़ 57 मुस्लिम खानदान के तकरीबन 250 मेम्बर्स को हिंदू बनाए जाने का मामला अब तूल पकडता जा रहा है। मज़हब तब्दीली मामले में बजरंग दल के एक कारकुनो पर आगरा में केस दर्ज किया गया है। मामला दर्ज होते ही पुलिस म

उत्तर प्रदेश के आगरा में पीर के रोज़ 57 मुस्लिम खानदान के तकरीबन 250 मेम्बर्स को हिंदू बनाए जाने का मामला अब तूल पकडता जा रहा है। मज़हब तब्दीली मामले में बजरंग दल के एक कारकुनो पर आगरा में केस दर्ज किया गया है। मामला दर्ज होते ही पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

मज़हब की तब्दीली करने वाले खानदानो का इल्ज़ाम है कि उन्हें बीपीएल कार्ड बनवाने और जमीन देने का लालच देकर मज़हब तब्दील कराया गया। इससे पहले पुलिस ने कहा था कि एफआईआर दर्ज कराए जाने पर वह कार्रवाई करेगी।

अपोजिशन लीडर मायावती, के रहमान खान व शरद यादव ने इस वाकिया की मुज़म्मत की है। गौरतलब है कि आगरा के देवी रोड इलाके में पीर के रोज़ Conversion program राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के धर्म जागरण और बजरंग दल की तरफ से प्रोग्राम मुनाकिद किया गया था।

प्रोग्राम को पुरखों की घर वापसी का नाम दिया गया था। इस प्रोग्राम में जबरन मज़हब की तब्दीली की शिकार खातून मुनीरा ने बताया कि बीपीएल कार्ड बनवाने और जमीन का एक-एक प्लॉट देने का लालच देकर कहा गया कि चलो, सिर्फ तस्वीर खिंचवाना है। मुनीरा ने कहा, हमें जहां लाया गया, वहां हवन चल रहा था।

हमें हवन-कुंड के पास बैठाया गया। हम लोग डर गए थे। हमें काली माता की मूर्ति के सामने ले जाया गया और पूजा करने को कहा गया। डर के मारे हमने वैसा ही किया, लेकिन आज हम लोग फिर कुरआन शरीफ पढ रहे हैं और खानदान के लोगों ने नमाज भी अदा की। आगरा के सीनीयर पुलिस सुप्रीटेंडेंट शलभ माथुर ने कहा कि इस वाकिया के ताल्लुक में बजरंग दल के कारकुनो पर केस दर्ज कर लिया गया है और जांच जारी है।

बजरंग दल ने हालांकि अपने ऊपर लग रहे इल्ज़ामात को सिरे से खारिज किया है। ब्रज कुंबे के (Co province Coordinator)अज्जू चौहान ने कहा यह मज़हब की तब्दीली नहीं बल्कि 57 परिवारों के लोगों की घर वापसी हुई है। हिंदू मज़हब अपनाने वाले ये लोग काफी गरीब तबके से आते हैं।

उन्हें बरगलाया जा रहा है। वे डरे और सहमे हुए हैं। उनको किसी भी तरह का लालच नहीं दिया गया था। इस बीच आरएसएस के एक लीडर ने कहा कि उनकी तंज़ीम का मज़हब की तब्दीली की मुहिम जारी रहेगी। हिंदू मज़हब छोडकर दूसरा मज़हब अपनाने वाले और भी लोगों को वापस लाने की कोशिश की जाएगी।

TOPPOPULARRECENT