Saturday , December 16 2017

मज़हब की तब्दीली पर पार्लियामेंट में हंगामा जारी, सरकार कानून बनाने को तैयार

मज़हब की तब्दीली के मुद्दे पर जुमेरात के रोज़ भी पार्लियामेंट में जमकर हंगामा जारी है। इस वजह से दोनों सदनों की कार्यवाही में कई बार रुकावटे हुई। अपोजिशन इस मुद्दे पर चर्चा की मांग कर रहा है, जबकि पार्लीमानी कामकाज़ के वज़ीर वेंकैया

मज़हब की तब्दीली के मुद्दे पर जुमेरात के रोज़ भी पार्लियामेंट में जमकर हंगामा जारी है। इस वजह से दोनों सदनों की कार्यवाही में कई बार रुकावटे हुई। अपोजिशन इस मुद्दे पर चर्चा की मांग कर रहा है, जबकि पार्लीमानी कामकाज़ के वज़ीर वेंकैया नायडू ने कहा कि मह चर्चा के लिए तैयार हैं। अब खबर है कि इस मुद्दे पर दोपहर दो बजे लोकसभा में चर्चा होगी।

लोकसभा स्पीकर ने भी कहा है कि अगर सरकार और अपोजिशन में रज़ामंदी बन जाती है तो वह ऐवान में चर्चा कराने को तैयार है। हंगामे के बीच वज़ीर वेंकैया नायडू ने लोकसभा में कहा कि अगर ऐवान मांग करती है तो सरकार मज़हब की तब्दीली पर एंटी कन्वर्जन बिल लाने को तैयार है।

हम जानते हैं कि इस पूरी कवायद के लिए बाहर से पैसा आ रहा है। सरकार मज़हब की तब्दिली पर चर्चा के लिए तैयार है। इन सबके बीच भाजपा लीडर विनय कटियार ने कुछ ऐसा कह दिया है जिस पर बवाल बढना तय है। उन्होंने कहा, “इस मुल्क में ऐसा कोई नहीं जिसका हिंदू मज़हब से नाता न हो। अगर कोई अपने पुराने मज़हब में वापस आना चाहता है तो इसमें गलत क्या है। तीन नस्ल पहले तो उमर अब्दुल्ला के घर वाले भी हिंदू थे।”

ऐवान की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के रुकन सदर की कुर्सी के करीब हो गए और सभी एकसाथ “मोदी सरकार होश में आओ” और “हिंदु-मुस्लिम भाई-भाई” के नारे लगाने लगे। समाजवादी पार्टी लीडर मुलायम सिंह यादव ने कहा कि मुद्दे को संजीदगी से लेना चाहिए। नही तो दंगे हो सकते हैं।

राज्यसभा में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस मामले पर अब रियासती हुकूमत जल्द से जल्द कार्रवाई करे। मायावती ने भाजपा पर इल्ज़ाम लगाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा फिर्कावाराना तनाव फैलाने की कोशिश कर रही है।

इससे पहले सरकार ने कहा कि आगरा में जबरन मज़हब की तब्दीली नहीं किया गया था। अपोजिशन के पास कोई मुद्दा नहीं है। उन्हें छींक भी आती है तो उसमें आरएसएस का हाथ नजर आता है। दरअसल, आगरा के बाद 25 दिसंबर को अलीगढ में भाजपा एमपी आदित्यनाथ की अगुवाई में 5 हजार इसाइयों और मुसलमानों को हिंदू बनाने की योजना है।

हाल ही वहां 80 ईसाइयों को हिंदू बनाया जा चुका है। दूसरी तरफ, इस प्रोग्राम के खिलाफ कमर कसते हुए समाजवादी पार्टी ने कहा है कि यह प्रोग्राम नहीं होने दिया जाएगा, जबकि योगी आदित्यनाथ ने भी इसी हिम्म्त के साथ कहा है कि ऐसा होकर रहेगा।

TOPPOPULARRECENT