Friday , December 15 2017

मज़हर इमाम की रहलत का ग़म नाक़ाबिल तलाफ़ी: शौकत हयात

पटना, ०२ फरवरी (यू एन आई) मारूफ़ अफ़्साना निगार और अमलीत पसंद मुसन्निफ़ीन गिल्ड के सदर शौकत हयात ने मज़हर इमाम के इंतिक़ाल पर शदीद रंज-ओ-ग़म का इज़हार किया। शौकत हयात ने कहा कि नई और जदीद शायरी के सरमाये में मरहूम ने काबिल-ए-क़दर और बेशबहा

पटना, ०२ फरवरी (यू एन आई) मारूफ़ अफ़्साना निगार और अमलीत पसंद मुसन्निफ़ीन गिल्ड के सदर शौकत हयात ने मज़हर इमाम के इंतिक़ाल पर शदीद रंज-ओ-ग़म का इज़हार किया। शौकत हयात ने कहा कि नई और जदीद शायरी के सरमाये में मरहूम ने काबिल-ए-क़दर और बेशबहा इज़ाफे़ ही नहीं किए बल्कि आज़ाद ग़ज़ल जैसी नई सिनफ़ की बुनियाद भी डाली।

इस तरह मज़हर इमाम साहिब तर्ज़ मुस्तनद मुआसिर शारा-ए-में सर-ए-फ़हरिस्त हैं।शौकत हयात ने जिन की मरहूम से रिश्तेदारी भी थी, कहा कि इतने बड़े शायर के गुज़र जाने से जो ख़ला पैदा हुआ इस का पर होना नामुमकिन है।

TOPPOPULARRECENT