Friday , April 20 2018

यदि आरएसएस हस्तक्षेप करता है, तो बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद का समाधान हो सकता है: डॉ. जफरुल इस्लाम

नई दिल्ली: अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान का मानना है कि यदि आरएसएस की मध्यस्थता है, तो बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद का हल हो सकता है। जबकि आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड द्वारा निष्कासित किये गये मौलाना सलमान नाडवी ने खुद को अयोध्या के मुद्दे से अलग कर दिया है, अब डॉ. जफरुल इस्लाम उसी रास्ते का अनुसरण कर रहे हैं। डॉ. जफर भी सोचते हैं कि यदि कोई मस्जिद एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित हो जाता है तो कोई नुकसान नहीं है।

डॉ. जफरूल इस्लाम ने हिन्दी समाचार पोर्टल ‘न्यूज 18’ पर वार्ता के दौरान अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा ‘दुनिया जानती है कि आरएसएस एक शक्तिशाली संगठन है यह भारत के हिंदू संगठनों में सबसे ऊपर है इसलिए कोई भी इसके बारे में बात नहीं करेगा इसलिए अगर आरएसएस के विवाद में हस्तक्षेप होता है तो एक समाधान की मांग की जा सकती है।

सवाल यह है कि मामला अदालत में लंबित है, पर डॉ. इस्लाम ने कहा कि यह मामला 70 साल के लिए अदालत में लंबित है। विवाद के कारण देश में दंगों, हिंसा और अस्थिर स्थिति आ रही है। इसलिए न्यायालय के फैसले की प्रतीक्षा करते वक्त हमें अन्य समाधानों की तलाश करने की कोशिश भी करनी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT