Saturday , November 25 2017
Home / Khaas Khabar / यदि यही हाल रहा और तो मोदी बनारस से चुनाव हार सकते हैं

यदि यही हाल रहा और तो मोदी बनारस से चुनाव हार सकते हैं

यह मेरा कथन नही, उस क्षेत्र के मतदाताओं, जो बनारस के आस-पास नौकरी करते हैं, और रोज सुबह ट्रेन से अपने कार्य स्थल पर पहुँचते है. बनारस में के मिजाज़ को समझने के लिए मैंने वहां की यात्रा के दौरान इनके पास विभिन्न मुद्दों पर बातचीत करने के लिए पर्याप्त मुद्दे होते हैं.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इन एमएसटी वालों को बनारस से जौनपुर में यात्रा करनी थी. उसी डिब्बे के एक कोने में मैं बैठा था. व्यक्तिगत बातचीत से उनकी बात बनारस एवं मोदी पर आकर टिक गयी. उन लोगों ने अपनी बातचीत में यह बताया कि पिछले दो सालों में मोदी ने एक ट्रेन देने के सिवा बनारस में कुछ नही किया.

और ऐसी ट्रेन दी, जिसमें आम आदमी यात्रा तो कर ही नहीं सकता. इसके आलावा इस समय जितने भी विकास कार्य बनारस में हो रहे हैं, वे तो पिछले आठ से चार साल पहले शुरू हुए हैं. ये सभी काम आज भी अनवरत चल रहे हैं. एक भी काम पूरा नही हुआ.

पूरा बनारस धुल एवं गड्ढो से जूझ रहा है. जिस तरह से यहाँ के पूर्व सांसद प्रो. मुरली मनोहर जोशी अलोकप्रिय हो गये थे, उसकी शुरुआत हो चुकी है. यदि मोदी जी ने बनारस की जनता से किये वायदे पूरे नही किये तो वे चुनाव हार सकते हैं. मैं उनकी बातों को बड़ी ही संजीदगी से सुन रहा था. ये सभी एमएसटी पास धारक भाजपा के समर्थक एवं मतदाता थे, जैसा मुझे उनकी बातों से लगा.

प्रो. (डॉ.) योगेन्द्र यादव
पत्रकार

TOPPOPULARRECENT