Wednesday , December 13 2017

यमन में ख़ुदकुश बम धमाका , 96 फ़ौजी हलाक, 300 ज़ख़मी

* फ़ौजी सिपाही ख़ुदकुश बम बर्दार में तबदील, वज़ीर-ए-दिफ़ा(रख्शा मंत्री) महफ़ूज़ ,हॉस्पिटल के ज़राए का ब्यान

* फ़ौजी सिपाही ख़ुदकुश बम बर्दार में तबदील, वज़ीर-ए-दिफ़ा(रख्शा मंत्री) महफ़ूज़ ,हॉस्पिटल के ज़राए का ब्यान
संआ । यमन का एक फ़ौजी सिपाही ख़ुदकुश बम बर्दार में तबदील हो गया। इस ने अपनी वर्दी के नीचे ताक़तवर धमाकु मादों की पेकेट‌ बांध कर ख़ुद को एक फ़ौजी बटालियन के बीच‌ में धमाका से उड़ा लिया, जिस की वजह से 96 फ़ौजी हलाक और लगभग‌ 300 ज़ख़मी हो गए।

एक फ़ौजी ओहदेदार और हॉस्पिटल के ज़राए ने कहा कि मुलक कि राजधानी संआ में ये अब तक का बहुत भयानक‌ ख़ुदकुश हमला था। नए चुने गए सदर अबदुलरब‌ मंसूर हाजी की तरफ‌ से अलक़ायदा के आतंकवादियों को यमन से नीकाल बहार‌ करने के अह्द के बाद ये खूँरेज़ हमला किया गया है।

अलक़ायदा के आतंकवादी ज़्यादा तर यमन के लाक़ानूनीयत और दंगो वाले जुनूबी और मशरिक़ी(पुर्वीय‌) सूबों में रह रहे हैं। हॉस्पिटल ज़राए ने अपनी पहचान छीपाए रखने की शर्त पर कहा कि ज़ख़मीयों का पूरे संआ के कई हॉस्पिटल्स में इलाज होरहा हैं। तमाम बम धमाके में हलाक होने वालें और ज़ख़मी फ़ौजी सिपाही ही हैं। तुरंत‌ पर इस ज़बरदस्त बम हमले की ज़िम्मेदारी किसी ने क़बूल नहीं की।

आंखु देखे गवाहों के मुताबीक‌ बम धमाका इतना ज़ोरदार था कि इस की आवाज़ पूरे शहर में सुनी गई, जिस की वजह से मुक़ामी शहरीयों में दहश्त की लहर दौड़ गई। बम बर्दार फ़ौजी की अभि तक पहचान‌ नहीं की जा सकी। इस ने हुकूमत की मर्कज़ी सयान्ती फ़ौज की वर्दी पहन रखी थी और धमाको माद्दे वर्दी के नीचे छीपाये थे।

पुर्व‌ सदर अली अबदुल्लाह सालिह के भतीजा शुमाली और जुनूबी यमन के इत्तिहाद की बाईसवीं सालगिरा के मौके पर एक फ़ौजी परेड के रीहरसल का मुशाहिदा करने वाले थे जबकि ये ख़ुदकुश हमला किया गया। एक फ़ौजी ओहदेदार ने कहा कि यमन के वज़ीर-ए-दिफ़ा (रख्शा मंत्री)मुहम्मद नसीर अहमद धमाका के वक़्त मौजूद थे। लेकिन‌ वो बाल बाल बच गए।

वहां मौजुद गवाहों के मुताबिक‌ इंसानी लाशों के टुकड़े संआ के सबील चौक में जहां ये धमाका किया गया हर तरफ़ बिखरे नज़रआरहे हैं। हुकूमत यमन अक्सर बड़े पैमाने पर फ़ौजी परेड इसी चौक में मुनाक़िद किया करती है। ए एफ़ पी के रीपोर्टर‌ ने कहा कि बीसियों अम्बुलंस गाड़ियां हलाक होने वालों और ज़ख़मीयों को हस्पताल ले जाने केलिए मुक़ाम वारदात पर पहुंच गई हैं।

फ़ौज ने पूरे इलाक़ा को गैर लिया है। नए सदर हादी के इक़तिदार संभालने के बाद ये संआ में मोहलिक तरीन ख़ुदकुश हमला है। नए सदर हादी ने तक़रीब(समारोह) हलफ़ बर्दारी में ब्यान करते हुए अलक़ायदा के मुल्क में बढ़ते हुए असर‍ ओर रसूख़ को ख़त्म‌ करने का अह्द किया था।

10 दिन पहले अलक़ायदा के ख़िलाफ़ यमन के शोरिश ज़दा(दंगा वाले) जुनूबी सूबा अबियान में बड़े पैमाने पर फ़ौजी जारिहाना कार्रवाई का आग़ाज़ हुआ था, जहां जिहादीयों ने कई कस्बों और शहरों का कंट्रोल संभाल लिया है और पिछली मई से ही हमले की शुरुआत‌ करदि है।

TOPPOPULARRECENT