यरुशलम पर अमेरिका के खिलाफ़ वोट करने वाले देशों से बदला लिया जा सकता है- ट्रम्प

यरुशलम पर अमेरिका के खिलाफ़ वोट करने वाले देशों से बदला लिया जा सकता है- ट्रम्प

वॉशिंगटन। अमरीका द्वारा संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देश यरुशलम को बतौर इस्राइल की राजधानी मान्यता को लेकर अस्वीकार प्रस्ताव पर मतदान करने वाले देशों को अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सजा देने का फैसला किया है।

ट्रंप ने उनके फैसेल के खिलाफ वोट करने वाले देशों को अनुदान में कटौती की धमकी दी है। एक आपात सत्र में संयुक्त राष्ट्र महासभा इस प्रस्ताव पर निर्णय करेगी कि यरुशलम मुद्दा वार्ता के माध्यम से हल किया जाना चाहिए तथा उसके दर्जे पर किसी भी फैसले की कोई कानूनी प्रभाव नहीं है एवं उसे रद्द किया जाए।

सुरक्षा परिषद में गत दिनों अमरीका ने इस प्रस्ताव पर वीटो कर दिया था, जबकि बाकी अन्य सभी 14 सदस्य उसके पक्ष में वोट डाला था। उसके बाद उसे महासभा में भेजा गया हैं।

पवित्र नगरी यरुशलम का दर्जा इस्राइल -फिलीस्तीन संघर्ष के सबसे अधिक विवादास्पद विषयों में एक है। दोनों पक्ष उसे अपनी अपनी राजधानी होने का दावा करते हैं। इस शहर को 6 दिसंबर को ट्रंप द्वारा इस्राइल की राजधानी के रूप में मान्यता देने का फैसला अंतर्राष्ट्रीय सहमति से भिन्न है।

मुस्लिम देशों में अमरीकी फैसले के विरुद्ध जबर्दस्त प्रदर्शन शुरू हो गया और कई देशों ने संयुक्त राष्ट्र से अपील की।वहीं, इस मुद्दे पर ट्रंप ने चेतावनी दी है कि अमरीका की इस बात पर कड़ी नजर होगी कि मतदान में विभिन्न देशों का क्या रुख होता है। उसका समर्थन करने वालों से बदला लिया जा सकता है।

Top Stories