यरुशलम में एम्बेसी शिफ्ट करने के फैसले को अमेरिका रद्द करले, वर्ना बहुत दे हो चुकी होगी- एर्दोगन

यरुशलम में एम्बेसी शिफ्ट करने के फैसले को अमेरिका रद्द करले, वर्ना बहुत दे हो चुकी होगी- एर्दोगन
Click for full image

डोनाल्ड ट्रम्प ने फैसला लिया है की वह इजराइल के स्वतंत्रता दिवस पर अपनी इसरायली एम्बेसी को जेरुसलम में ले जायेंगे, जिसके बाद वर्ल्ड न्यूज अरेबिया ने आपको खबर दी थी की अपनी इसरायली एम्बेसी को जेरुसलम में शिफ्ट करने के लिए ट्रम्प के अधिकारीयों ने इनविटेशन कार्ड भेजना शुरू कर दिए।

अमेरिकन एम्बेसी के जेरुसलम में शिफ्ट होने से एक हफ्ते पहले टर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान ने ट्रम्प के इस फैसले को एक बड़ी गलती बताया। एक इंटरव्यू में एर्दोगान ने अमेरिका से आग्रह कर जोर दिया की अमेरिका को यह फैसला रद्द कर लेना चाहिए क्योंकि फिर जब अमेरिका को इससे कुछ भी प्राप्त नहीं होगा तो तब तक बहुत देर हो चुकी होगी।

सीएनएन की खबरों के अनुसार टर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान ने फिर दोहराया की जेरुसलम फिलिस्तीन की राजधानी है और एक दिन जब फिलिस्तीन देश स्थापित हो जाएगा तो तुर्की अपनी एम्बेसी को जेरुसलम में खोलेगा।

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान ने दावा किया कि इस कदम से अमेरिकी राजनयिक रूप से अलग हो गया है और उन्होंने कहा है की जेरुसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता के साथ अमेरिका ने अपने सहयोगियों को खो दिया है।

वर्ल्ड न्यूज अरेबिया को मिली खबरों के अनुसार ज़ब तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान को अमेरिका द्वारा ईरान परमाणु समझौते से पीछे हटने पर सवाल किया गया तो उन्होंने इस फैसले की निंदा की और कहा की अगर आपने किसी समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं तो आपको उस फैसले का सम्मान करना चाहिए।

Top Stories