Monday , January 22 2018

यरुशलेम में अमेरिकी दूतावास बनाना ‘इस्लाम के खिलाफ युद्ध’ जैसा: इराक के सदर

इराक के शिया मौलवी मुक्तादा अल सद्र ने इसराइल में अमेरिकी दूतावास को तेल अवीव से यरूशलेम स्थानांतरित करने की अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की योजना की निंदा की है, और कहा है कि यह कदम ‘इस्लाम के खिलाफ युद्ध की घोषणा” जैसा होगा।

ट्रम्प ने अपने चुनावी अभियान में पिछले प्रशासन द्वारा ऐसा करने की अनिच्छा के बावजूद अमरीकी दूतावास को तेल अवीव से यरूशलेम स्थानांतरित करने का वादा किया था।

“अगर दूतावास की जगह बदली गयी, तो यह इस्लाम पर युद्ध की घोषणा मानी जाएगी,” अल-सद्र ने मंगलवार को एक बयान में कहा।

“यदि ऐसा होगा, तो यरूशलेम को आजाद कराने के लिए एक बल के गठन की जरूरत होगी,” उन्होंने बिना ब्यौरा दिए कहा।

इराकी नेता ने इस्लामी देशों का आह्वान करते हुए कहा कि यदि वाशिंगटन यरूशलेम में अपने राजनयिक मुख्यालय को स्थानांतरित करने के लिए काम करता है तब उन्हें अपने देश में अमेरिका और इजरायल के दूतावासों को बंद कर देना चाहिए।

“इसका यह भी मतलब है कि इराक में अमरीकी दूतावास को तुरंत बंद किया जाना चाहिए,” उन्होंने कहा।

सोमवार को व्हाइट हाउस ने कहा कि यरूशलेम में दूतावास के स्थानांतरण के कदम पर “कोई निर्णय” नहीं हुआ है और इस सम्बन्ध में वार्ता “बहुत ही प्रारंभिक अवस्था” में है।

TOPPOPULARRECENT