यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा को दिल्ली से उम्मीदवार बनाना चाहती है आप पार्टी

यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा को दिल्ली से उम्मीदवार बनाना चाहती है आप पार्टी

नई दिल्ली। 2019 लोकसभा चुनाव के लिए रणनीतियों का दौर शुरू हो गया है. हर पार्टी की तरफ से उम्मीदवारों और रणनीति को लेकर मंथन जारी है. उम्मीदवारों के नाम पर चर्चा का दौर जारी है. इसी कड़ी में बीजेपी के पूर्व नेता यशवंत सिंह का नाम भी चर्चा में है. आम आदमी पार्टी पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा को नई दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारने की संभावनायें तलाश रही है.

शत्रुघ्न सिन्हा पर भी नजर

पार्टी सूत्रों के अनुसार नई दिल्ली सीट से यशवंत सिन्हा और पश्चिमी दिल्ली सीट से भाजपा के बागी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा को आप उम्मीदवार बनाना चाहती है और इस बाबत दोनों नेताओं के साथ आप नेतृत्व की बातचीत चल रही है.

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि यशवंत सिन्हा के साथ इस दिशा में बातचीत काफी आगे बढ़ चुकी है. साथ ही शत्रुघ्न सिन्हा के साथ भी बातचीत हुई है. उन्होंने बताया हम चाहते हैं कि यशवंत सिन्हा नई दिल्ली और शत्रुघ्न सिन्हा पश्चिमी दिल्ली सीट से लोकसभा चुनाव लड़ें. लेकिन बिहार की पटना साहिब सीट से भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा अपनी परंपरागत सीट नहीं छोड़ना चाहते हैं.

कांग्रेस के साथ दो सीटों पर हो सकता है गठबंधन

उन्होंने बताया कि यशवंत सिन्हा से बातचीत चल रही है. कांग्रेस के साथ संभावित गठबंधन के सवाल पर आप के एक अन्य नेता ने बताया कि पार्टी नेतृत्व दिल्ली की सात में से दो लोकसभा सीटों पर कांग्रेस के साथ साझा उम्मीदवार उतारने तक संभावित गठबंधन को सीमित रखने का हिमायती है.

 

उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी. बता दें कि आप ने नयी दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली सीट को छोड़ कर पांच सीटों के लिये पार्टी संयोजक के रूप में संभावित उम्मीदवारों की घोषणा पहले ही कर दी है.

बता दें कि मोदी सरकार से नाराज यशवंत सिन्हा पहले ही पार्टी छोड़ चुके हैं. उनके बेटे जयंत सिन्हा सरकार में मंत्री हैं. वहीं, शत्रुघ्न सिन्हा भी सरकार गठन के समय से ही मोदी सरकार से नाराज चल रहे हैं और हर मौके पर पीएम मोदी और केंद्र सरकार को निशाने पर लेने से नहीं चूकते. कई मौकों पर वह खुलकर पीएम मोदी को निशाना बना चुके हैं. हालांकि, पार्टी ने कभी उनपर किसी तरह की कार्रवाई नहीं की है, लेकिन वह पूरी तरह अलग-थलग जरूर पड़ गए हैं.

Top Stories