Wednesday , September 26 2018

यह हियरिंग ऐड बहरेपन का इलाज कर सकती है: शोधकर्ता

वाशिंगटन: सुनने से संबंधी हानि वाले मरीजों के साथ संचार में सुधार करने के लिए जिन्हें सुनने में कमी है, शोधकर्ताओं की एक टीम ने उन लोगों की मदद करने के लिए ‘उच्च परिभाषा’ सहायता विकसित की है।

ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न में शोधकर्ताओं के बायोनिक्स इंस्टीट्यूट के मुताबिक, वे उम्मीद करते हैं कि यह तकनीक मौजूदा कोक्लियर प्रत्यारोपण पर एक उन्नयन के रूप में होगी क्योंकि इन उपकरणों वाले लोग अक्सर जटिल आवाज़ों को चुनने में असमर्थ हैं या जब पृष्ठभूमि शोर हो तो स्पष्ट रूप से सुन सकते हैं।

उन्होंने कहा कि वे प्रत्यारोपण विकसित कर रहे हैं जो विद्युत आवेगों के बजाय प्रकाश का उपयोग कर तंत्रिकाओं को उत्तेजित करते हैं।

अनुसंधान का समर्थन हियरिंग लॉस पर चैरिटी एक्शन द्वारा किया जाता है और नई तकनीक पर काम करने के लिए अभियान चला रहा है।

शोधकर्ता कार्ली एंडरसन ने कहा, “यह कॉक्लियर प्रत्यारोपण के साथ वर्तमान सीमाओं को हल करने का एक लंबा रास्ता तय कर सकता है, क्रांतिकारी बदलाव कैसे कर सकता है कि हम बहरे लोगों को सुनकर कैसे पुनर्स्थापित कर सकें और वे कैसे भाषण और संगीत सुनते हैं।”

एंडरसन ने कहा, “यह लोगों को और अधिक प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम बना सकता है, जो उनकी गुणवत्ता में काफी सुधार कर सकता है।”

कॉरलियर प्रत्यारोपण को 40 साल पहले विकसित किया गया था और इसका परिणाम भीतरी कान के स्वास्थ्य के आधार पर नाटकीय ढंग से भिन्न हो सकते हैं और एक व्यक्ति का मस्तिष्क डिवाइस पर प्रतिक्रिया कैसे देता है।

शोध के लिए, टीम जीन थेरेपी का प्रयोग कर रही है ताकि श्रव्य तंत्रिका को विद्युत संकेतों के बजाय प्रकाश के प्रति संवेदनशील बनाया जा सके।

TOPPOPULARRECENT