Saturday , December 16 2017

यूनानी दवाख़ाना गंभी राव पेट छः माह से बंद

गंभी राव पेट, २१ जनवरी (सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) गंभी राव पेट की यूनानी डिसपेंसरी गुज़शता छः माह से ज़ाइद अर्सा से बंद पड़ी हुई है जिस का कोई पुर्साने हाल नहीं है साठ साल के ज़ाइद अरसा-ए-दराज़ से यहां क़ायम उस यूनानी डिसपेंसरी में मैडी

गंभी राव पेट, २१ जनवरी (सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) गंभी राव पेट की यूनानी डिसपेंसरी गुज़शता छः माह से ज़ाइद अर्सा से बंद पड़ी हुई है जिस का कोई पुर्साने हाल नहीं है साठ साल के ज़ाइद अरसा-ए-दराज़ से यहां क़ायम उस यूनानी डिसपेंसरी में मैडीकल ऑफीसर ,कंपाउंडर के इलावा स्वीपर की एक एक जायदादें मंज़ूर हैं जो उस वक़्त तीनों की तीनों जायदादें मख़लवा है जिस की वजह मजबोरा डिसपेंसरी को मुक़फ़्फ़ल कर दिया गया और इस वजह यूनानी तर्ज़ ईलाज अवाम जिन में अक्सर मरीज़ शामिल हैं इस्तेफ़ादा से महरूम होकर रह गए हैं ।

वाज़िह रहे कि गुज़शता दिनों डिसपेंसरी के मिनजुमला तीनों जायदादों के एकड एक्टर बतौर मेडीकल ऑफीसर अपनी ख़िदमात अंजाम दे रहे थे कि महिकमा के ओहदेदारों का जून 2011 को इन का तबादला कर दिया । इस वजह यहां ख़िदमात अंजाम दे रहे डाक्टर ( मेडीकल ऑफीसर ) तबादला के अहकामात पर अमल आवरी करते हुए मुईन कर्दा मुक़ाम पहुंच कर जायज़ा हासिल कर लिया ।

जिस की वजह ये डिसपेंसरी मुक़फ़्फ़ल हो गई महकमे के ओहदेदारों को चाहीए था कि वो यहां मुतय्यन डाक्टर का तबादला करने से क़ब्ल अज़ किसी दूसरे डाक्टर या तो फिर कंपाउंडर को यहां मुक़र्रर करे ताकि ये डिसपेंसरी बंद नह हो जाये लेकिन महिकमा तिब्ब के ओहदेदारों इस जानिब कोई तवज्जा नहीं दी वर्ना ये डिसपेंसरी आज बंद पड़ी नज़र आती । लिहाज़ा अर्बाब मजाज़-ओ-महिकमा के ओहदेदारों को चाहीए कि वो इस डिसपेंसरी की जानिब अपनी तवज्जा मर्कूज़ करते हुए यहां क़ायम क़दीम यूनानी डिसपेंसरी को क़ायम रखने केलिए मुतबादिल इंतिज़ाम करे वर्ना ये दिन दूर नहीं होंगे ये डिसपेंसरी यहां से बरख़ास्त होजाए ।

TOPPOPULARRECENT