‘यूनिवर्सिटी ऑफ जिहाद’ के नाम से मशहूर मदरसे को पाकिस्तान सरकार ने दी 300 मिलियन की मदद

‘यूनिवर्सिटी ऑफ जिहाद’ के नाम से मशहूर मदरसे को पाकिस्तान सरकार ने दी 300 मिलियन की मदद
Click for full image

पेशावर: तालिबान से जुड़ी ‘यूनिवर्सिटी ऑफ जिहाद’ के नाम से प्रसिद्ध एक मदरसे को पाकिस्तान की खैर-पख्तून सरकार ने 300 मिलियन रुपये का ग्रांट दिया है। सूत्रों के कहना है कि इस मदरसे का सीधा संबंध अफगानिस्तान तालिबान से है। अफगान तालिबान के पूर्व अध्यक्ष मुल्ला उमर समेत कई तालिबानी नेता इसके अल्मनाई रह चुके हैं।

खैबर-पख्तून के मंत्री शाह फरमान ने विधानसभा में कहा है कि मैं गर्व के साथ इस बात की घोषणा करता हूं कि ‘दारुल उलूम हक्कानिया नाउशेरा’ को अपने सालानाखर्चों के लिए ३०० मिलियन रुपये मिलेंगे। इस मदरसे से मुल्ला उमर समेत कई तालिबानी नेता निकल चुके हैं। आतंकी नेटवर्क हक्कानी के निर्माता जल्लाद्दीन हक्कानी, भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा का नेता असीम उमर और अमेरिकी ड्रोन आक्रमण में मारा गया अफगान तालिबान का प्रमुख अख्तर मंसूर इस मदरसे में पढ़ाई कर चुके हैं।

Top Stories