Wednesday , September 26 2018

यूपी उपचुनाव: फूलपूर में मुस्लिम- दलित कॉम्बिनेशन ने योगी को किया फेल!

यूपी उपचुनाव में भाजपा हार गई है। सपा के नागेंद्र सिंह पटेल ने 59,613 वोटों से जीत दर्ज की। नागेन्द्र को 3,42,796 वोट, भाजपा के कौशलेंद्र सिंह पटेल को 2,83,183 वोट मिले। बता दें योगी ने 1 से 10 मार्च तक 5 जनसभाएं कीं, प्रचार में 10 मंत्री, 7 विधायक और 4 सांसदों ने चुनाव प्रचार किया। इतना ही नहीं उप-मुख्यमंत्री केशव मौर्या ने भी डेरा डाल रखा था

फूलपुर में वोटिंग पर्सैंटेज 2014 में 50.19 प्रतिशत था, जबकि इस बार 38 प्रतिशत वोटिंग हुई, मतलब 12.19 प्रतिशत कम। इसका मतलब वोट बंट गया।

शुरूआती राऊंड में ही सपा कैंडिडेट आगे हो गया। सपा को 2647 वोट मिले जबकि भाजपा को 2257 वोट। इसके बाद लगातार सपा ने बढ़त बनाए रखी।

उपचुनाव में विधानसभावार आंकड़े देखें तो रिजल्ट साफ हो जाएगा। फाफामऊ विधानसभा में 43 प्रतिशत, सोरांव में 45 प्रतिशत, फूलपुर में 46.32 प्रतिशत, शहर उत्तरी में 21.65 प्रतिशत, शहर पश्चिमी में 31 प्रतिशत वोटिंग हुई।

इसमें 3 विधानसभा सीटें ग्रामीण क्षेत्र की हैं, जहां ज्यादा वोटिंग हुई। जबकि शहर की 2 सीटों पर कम वोटिंग हुई। भाजपा शहर की पार्टी मानी जाती है। ऐसे में भाजपा को शहर से वोट तो मिले लेकिन गठबंधन को ग्रामीण क्षेत्र से ज्यादा फायदा हुआ।

फूलपुर चुनाव में दलित, पटेल और मुस्लिम निर्णायक कास्ट फैक्टर है। दलित 22 प्रतिशत तो मुस्लिम 17 प्रतिशत और पटेल 17 प्रतिशत हैं। ऐसे में इन तीनों के वोट पाने वाला ही विनर हुआ।

बी.एस.पी. समर्थित सपा कैंडिडेट को दलित, मुस्लिम के वोट के साथ पटेल वोट भी अच्छी तादाद में मिले, जबकि निर्दलीय कैं डिडेट अतीक अहमद भी मुस्लिम वोटों पर कुछ खास असर नहीं डाल पाए।

उन्हें अपने परंपरागत वोट मिले, जिसका फायदा भाजपा को नहीं मिला। वहीं भाजपा के कैंडिडेट पटेल होने के बावजूद पटेल वोटों में ज्यादा सेंध नहीं लगा पाए।

इसलिए सपा-बसपा समर्थित कैंडिडेट की जीत हुई। जबकि फूलपुर लोकसभा में ब्राह्मण 7 प्रतिशत, वैश्य 7, कायस्थ 6, यादव 6, ठाकु र 4 और अन्य 15 प्रतिशत हैं।

TOPPOPULARRECENT