Wednesday , December 13 2017

यूपी चुनाव: कांग्रेस को झटका, पूर्व मंत्री गोपाल नंदी पत्नी संग बीजेपी में शामिल

इलाहाबाद। कांग्रेस को एक बार फिर अपने ही घर में बड़ा झटका लगा और इलाहाबाद मंडल के प्रभारी और पूर्व मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नंदी अपनी पत्नी शहर की मेयर अभिलाषा गुप्ता नंदी के कांग्रेस का हाथ छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया बता दें की नंदी ने 2007 विधानसभा चुनाव में भाजपा के ही दिग्गज नेता केशरी नाथ त्रिपाठी को शिकस्त दे कर पहली बार विधानसभा में पहुचे और बसपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे ।

और इसी शीट पर कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए रीता बहुगुणा जोशी को भी मात मिली थी ।लेकिन यह राजनीत है जिसमे कुछ भी हो सकता है और एक दुसरे के विरोधी एक ही पार्टी शहर दक्षिण विधानसभा के चुनाव पर गौर किया जाए तो यह शीट व्यापारी और सवर्ण के साथ मुस्लिम आबादी वाली है ।इस विधानसभा शीट पर देखा जाय तो यहां सामान्य वर्ग के प्रत्याशियों का वर्चस्व रहा है।

यहां से ब्राह्मण प्रत्याशी 11 बार विजयी रहे। दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में जातिगत आंकड़ा देखा जाय तो व्यापारी वर्ग हावी है। बीते विधानसभा चुनाव में यहां से सपा के हाजी परवेज अहमद को 43040 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंदी बसपा के नन्द गोपाल गुप्ता को कुल 42626 वोट मिले थे। लेकिन आज की स्थिति में समाजवादी पार्टी यहा कमजोर है ।और कांग्रेस पहले से ही बुरी स्थिति में है।

जानकारों की मानें तो क्षेत्र में असली लड़ाई भाजपा व बसपा में होगी। गौरतलब है कि इस सीट से भाजपा के दिग्गज नेता केशरीनाथ त्रिपाठी पांच बार चुनाव जीते और यही से विधायक रहते हुए विधानसभा अध्य्क्ष रह चुके हैं। लेकिन पंडित केशरी नाथ के जीत का रथ नंदी ने रोका और बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े नंदी ने मात दी । और मंत्री भी बने। इसी सीट पर मिली हार के बाद पूर्व में कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष रही रीता ने इलाहबाद छोड़ लखनऊ चली गई।

इस सीट पर व्यापारियों में मजबूत पकड रखने वाले भाजपा और मुरली मनोहर जोशी खेमे के मजबूत नेता विजय मिश्र इस सीट पर प्रबल दावेदार माने जा रहे थे । वहीं पार्टी कार्यकर्ताओ में संघ और विहिप करीबियों की लम्बी लिस्ट थी ।जिसमे पदुम जायसवाल, उदय प्रताप सिंह, रामानन्द शुक्ल, गणेश केसरवानी, मुरारी लाल अग्रवाल, शशी वाष्र्णेय, पुनीत वर्मा भी टिकट लेने के लिए जोर लगाये हुए थे । लेकिन जानकारी के मुताबिक़ इस सीट पर अभिलाषा गुप्ता नंदी भाजपा का चेहरा हो सकती है ।

पत्रिका की खबर के मुताबिक, इस सीट पर कभी बसपा प्रत्याशी के रूप में नन्द गोपाल नंदी ने कांग्रेस की रीता बहुगुणा और भाजपा के केशरी नाथ को हराया था ।अब इसी सीट पर शहर की मेयर और नंदी की पत्नीअभिलाषा गुप्ता भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में आने को तैयार है । हालांकि पार्टी ने अभी पत्ते नही खोले पर अभिलाषा का प्रत्याशी बनना तय माना जा रहा है।

अभिलाषा इस क्षेत्र में लोकप्रिय है, महिलाओं के बीच अच्छी पैठ है खुद नंदी परिवार इसी क्षेत्र में रहता है । मंत्री रहते हुए खुद नन्द गोपाल और अभिलाषा ने अपने मेयर के कार्यकाल में इस क्षेत्र में काम भी बहुत किया है।कांग्रेस को अपने ही घर में झटका इसलिए भी है की इस सीट पर अभिलाषा गुप्ता की लोकप्रियता को देखते हुए कांगेस को अपनी सीट तय लग रही थी।

TOPPOPULARRECENT