Tuesday , November 21 2017
Home / Khaas Khabar / यूपी में एक जनवरी से ऑनलाइन लगेगी स्टूडेंट्स की हाजिरी

यूपी में एक जनवरी से ऑनलाइन लगेगी स्टूडेंट्स की हाजिरी

लखनऊ:उत्तर प्रदेश में बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में एक जनवरी से छात्र- छात्राओं की हाजिरी ऑनलाइन भरी जाएगी।

आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि इसके लिए बेसिक शिक्षा परिषद ने ऑनलाइन सॉफ्टवेयर तैयार किया है। इस योजना के तहत शिक्षकों को अब सुबह विद्यार्थियों की उपस्थिति के बाद अपने मोबाइल से बेसिक शिक्षा परिषद को मैसेज भेजना होगा, जिससे विभाग की सभी योजनाओं में होने वाले धन के दुरुपयोग को रोका जा सके।

बेसिक शिक्षा परिषद के शिक्षकों को उनके क्लास रूम में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की विद्यालय के रजिस्टर में हाजिरी लेने के साथ ही परिषद को अपने मोबाइल से एक मैसेज भी भेजना होगा। इस मैसेज के पहुंचते ही परिषद के सॉफ्टवेयर में विद्यार्थियों की हाजिरी लग जाएगी।

गौरतलब है कि परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों की संख्या और उन्हें मिलने वाली सरकारी सुविधाओं में पारदर्शिता रहे, इसके लिए शासन ने परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों की हाजिरी ऑनलाइन करने की व्यवस्था की है। इस व्यवस्था से शिक्षक भी समय से विद्यालय पहुंचेंगे।

सूत्रों ने बताया कि इस योजना के लागू होने पर बच्चों के अभिभावक भी बच्चों को विद्यालय समय से भेजेंगे। इससे परिषदीय विद्यालयों में पढ़ाई के प्रति बच्चों में रुझान आएगा। इसके अलावा परिषदीय विद्यालयों में पढ़ाई की गुणवत्ता भी सुधरेगी। प्रधानाध्यापक अपने रजिस्टर्ड नंबर से ही कक्षावार छात्र-छात्राओं की हाजिरी स्कूल खुलने के समय के एक घंटे के अंदर भेजेंगे। ऐसा नहीं करने पर कार्रवाई होगी।

उन्होंने बताया कि इसके अनुसार ही विद्यार्थियों के मिड डे मील (एमडीएम) में वितरण समेत अन्य सभी योजनाओं का लाभ भी विद्यार्थियों को विधिवत रूप से दिलाया जाएगा। शिक्षक हाजिरी रजिस्टर में एक दिन बाद शततिशत हाजिरी दिखाकर एमडीएम और अन्य योजनाओं में सरकारी धन का दुरुपयोग करने पर फंसेंगेए क्योंकि शिक्षक द्वारा मैसेज भेजे जाने के बाद विभागीय अधिकारियों द्वारा भी अपनी निरीक्षण आख्या में विद्यालय के उपस्थित बच्चों की संख्या दर्ज कर बेसिक शिक्षा अधिकारी बीएसए को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी।

परिषद की नीतियों के अनुसार शिक्षकों की हाजिरी कराने के लिए खंड शिक्षाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं, जिससे विधिवत रूप से कार्रवाई की जा सके। गड़बड़ी मिलने पर शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई होगी। हेराफेरी पकड़े जाने पर उसे सीधे सीधे गबन का मामला माना जाएगा।

TOPPOPULARRECENT