Tuesday , December 12 2017

यू पी ए हुकूमत मीयाद पूरी करेगी :वज़ीर-ए-आज़म

(ज़हीर उद्दीन अली ख़ान) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज इस बात की तसदीक़ की कि यू पी ए हुकूमत अपनी मीयाद पूरी करेगी । अलबत्ता समाजवादी पार्टी के सरबराह मुलायम सिंह यादव कांग्रेस ज़ेर-ए-क़ियादत यू पी ए हुकूमत की ताईद वापस लेने के इम्कान को म

(ज़हीर उद्दीन अली ख़ान) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज इस बात की तसदीक़ की कि यू पी ए हुकूमत अपनी मीयाद पूरी करेगी । अलबत्ता समाजवादी पार्टी के सरबराह मुलायम सिंह यादव कांग्रेस ज़ेर-ए-क़ियादत यू पी ए हुकूमत की ताईद वापस लेने के इम्कान को मुस्तरद कर दिया । ताहम मनमोहन सिंह ने कहा कि मख़लूत सियासत से बसाऔक़ात ग़ैर मुस्तहकम होने का तास्सुर पैदा होता है ।

लेकिन उन्हें पूरा यक़ीन है कि उनकी हुकूमत अपनी मीयाद पूरी करेगी । बिलाशुबा मख़लूत हुकूमत को कई मसाइल का सामना हैं । डरबन में ब्रिक्स चोटी कान्फ्रेंस से वापसी के दौरान फ़िज़ाईया के ख़ुसूसी तय्यारा में अपने हमराह सहाफ़ीयों से बातचीत करते हुए डाक्टर मनमोहन सिंह ने कहा कि लोक सभा के आइन्दा इंतेख़ाबात अपने वक़्त मुक़र्ररा पर होंगे ।

इंतेख़ाबात से एक साल क़ब्ल यू पी ए की दो अहम हलीफ़ पार्टीयां तृणमूल कांग्रेस और डी एम के ने अपनी ताईद वापस ली है । अब डाक्टर मनमोहन सिंह की हुकूमत को मुलायम सिंह यादव की पार्टी से बाहर की ताईद निहायत ही अहमीयत के हामिल हैं । लोक सभा में समाजवादी पार्टी के 22 अरकान-ए-पार्लीमेंट हैं ।

मआशी इस्लाहात के बारे में मनमोहन सिंह ने कहा कि हम इन इस्लाहात के इक़दामात को आगे बढ़ाना चाहते हैं लेकिन पार्लीमेंट में हुकूमत को अक्सरीयत हासिल नहीं है । हमारा इन्हिसार अपने हलीफ़ों की ख़ैरसिगाली पर मबनी है । ताहम हुकूमत को किसी ग़ैर यक़ीनी कैफ़ीयत का सामना नहीं है ।

आने वाले चंद महीनों में इस्लाहात के अमल को मूसिर बनाया जाएगा और इसके बेहतर नताइज बरामद होंगे । क़ब्लअज़ीं हिंदूस्तान और चीन की नई क़ियादत में अव्वलीन आला सतही रब्त के तौर पर वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने नए सदर चीन झ जिनपिंग ( Xi Jinping) से मुलाक़ात की और फ़ैसला किया कि दोनों ममालिक के बाहमी ताल्लुक़ात को आला तरक़्क़ी की राह पर डाल दिया जाएगा।

वज़ीर-ए-आज़म ने चीन की जानिब से दरयाए ब्रह्मापुत्र के किनारों पर तीन तालाब तामीर करने के मसला पर भी सदर चीन से तबादला-ए-ख़्याल किया। मनमोहन सिंह ने झ जिनपिंग ( Xi Jinping) से ब्रिक्स चोटी कान्फ्रेंस के मौक़ा पर अलैहदा तौर पर मुलाक़ात की।
Xi Jinping ने जारीया माह के अवाइल में सदर चीन का ओहदा सँभाला है।

चीन की क़ियादत में 10 साल में एक मर्तबा तब्दीली होती है। इस तब्दीली के बाद हिंदूस्तान और चीन के दरमियान ये पहला आला सतही राबिता है। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने मुलाक़ात के बाद प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि हिंदूस्तान, चीन के साथ ताल्लुक़ात को अज़ीम अहमीयत देता है। बहैसीयत वज़ीर-ए-आज़म हिंद मुझे ये एज़ाज़ हासिल है कि चीनी क़ियादत के साथ गुज़श्ता 10 साल से बाक़ायदा रब्त बरक़रार है।

उन्हों ने उम्मीद ज़ाहिर की कि नई चीनी क़ियादत के साथ आला सतही रब्त के नतीजा में मुज़ाकरात और मुवासलात में इज़ाफ़ा होगा और बाहमी ताल्लुक़ात आलातर तरक़्क़ी की राह पर पेशरफ्त करेंगे। साबिक़ सदर चीन हो जिंताओ और साबिक़ वज़ीर-ए-आज़म वैन जियाबाओ से वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह की गुज़श्ता चंद साल के दौरान ब्रिक्स चोटी कान्फ्रेंसों और दीगर बैन-उल-अक़वामी कान्फ्रेंसों के दौरान अलैहदा तौर पर 14 मुलाक़ातें हुई थीं।

आज की मुलाक़ात में सदर चीन जिनपिंग ( Xi Jinping) ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह की सियासत दानी की सताइश की और कहा कि उन्होंने हिंद चीन ताल्लुक़ात बेहतर बनाने में अहम किरदार अदा किया है। उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि हिंदूस्तान के साथ ये ताल्लुक़ात आइन्दा भी बरक़रार रहें बल्कि मज़ीद तरक़्क़ी करें।

सरकारी ज़राए के बमूजब 25 मिनट तवील मुलाक़ात में जो कल रात देर गए हुई थी, जबकि ब्रिक्स चोटी कान्फ्रेंस इख्तेताम पज़ीर हो चुकी थी। पानी के मसला पर तबादला-ए-ख़्याल किया गया। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने समझा जाता है कि सदर चीन को हिंदूस्तान के इन अंदेशों से वाक़िफ़ करवाया जो दरयाए ब्रह्मापुत्र के किनारे पर चीन की जानिब से तीन तालाबों की तामीर की तजवीज़ से पैदा हुए हैं।

हिंदूस्तान और चीन ने दरयाए ब्रह्मापुत्र के पानी की मालूमात में बाहमी शराकतदारी का कोई मुआहिदा नहीं किया है। ताहम चीन फ़िलहाल डागू, ज़्याचा और जैक्सव के इलाक़ों में तीन तालाब तामीर करने की तजवीज़ रखता है। जबकि 510 मेगावाट पानी का प्रोजेक्ट ज़ांगमो में क़ायम किया जाएगा।

हिंदूस्तान और चीन अपने बाहमी ताल्लुक़ात में तौसीअ करना चाहते हैं। आज की मुलाक़ात में इस मौज़ू पर भी तबादला-ए-ख़्याल किया गया। हिंदूस्तान और चीन के बाहमी ताल्लुक़ात के तमाम पहलूओं पर तबादला-ए-ख़्याल किया गया। ताहम जुनूबी बहर-ए-चीन के मसला पर बातचीत से गुरेज़ किया गया।

सरहद और तिजारत के मसाइल पर भी तबादला-ए-ख़्याल हुआ। ज़राए का इद्दिआ है कि बाहमी ताल्लुक़ात के तमाम पहलू बातचीत का मौज़ू थे। दोनों क़ाइदीन ने बाहमी ताल्लुक़ात के मज़ीद इस्तेहकाम की ख़ाहिश ज़ाहिर की।

मनमोहन सिंह ने Xi Jinping को जो बरसर-ए-इक़तिदार कम्यूनिस्ट पार्टी के सरबराह भी थे, बहैसीयत सदर इन के इंतेख़ाब पर मुबारकबाद पेश की और आइन्दा बरसों में उन के साथ तआवुन के ज़रीया काम करने की उम्मीद ज़ाहिर की। मनमोहन सिंह ने कहा कि आज की मुलाक़ात के बाद उन्हें तवक़्क़ो है कि बाहमी ताल्लुक़ात को तरक़्क़ी की नई राह पर डाला जा सकेगा।

मनमोहन सिंह ने सदर परनब मुखर्जी की दौरा-ए-हिंद की दावत सदर चीन तक पहुंचा दी जिन्होंने दावत कुबूल करते हुए कहा कि वो मुनासिब वक़्त पर हिंदूस्तान का दौरा करेंगे। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने कहा कि उन्हें साबिक़ वज़ीर-ए-आज़म वैन जियाबाओ ने दौरा-ए-चीन की दावत दी है और वो दोनों ममालिक के लिए काबिल‍ ए‍ कुबूल तारीख़ पर चीन का दौरा करेंगे।

सरकारी ख़बररसां इदारा झुन्नावा ने कहा कि सदर Xi Jinping ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह पर ज़ोर दिया कि बाहमी फ़ौजी ताल्लुक़ात, मुसल्लह अफ़्वाज में तआवुन और बाहमी फ़ौजी तबादलों में इज़ाफ़ा किया जाये। ताकि सयानत के बारे में एतेमाद में इज़ाफ़ा हो सके। ख़ुसूसी नुमाइंदों के निज़ाम का बेहतर इस्तेमाल करते हुए सरहदी तनाज़आत की यकसूई कर ली जाये।

दोनों ममालिक ने आला सतही ख़ैरसिगाली दौरों और रवाबित से भी इत्तिफ़ाक़ किया और कहा कि मुख़्तलिफ़ सतहों पर दिफ़ाई और सयासी रवाबित में इस्तेहकाम के लिए सयासी मुज़ाकरात और मुशावरत का बेहतर इस्तेमाल किया जाएगा। सदर चीन ने कहा कि दोनों ममालिक तआवुन के ऐसे निज़ाम की बुनियाद पर दिफ़ाई और मआशी मुज़ाकरात करेंगे और वसीअ पैमाने पर इंफ़रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स में तआवुन पर तबादला-ए-ख़्याल करेंगे।

TOPPOPULARRECENT