Monday , April 23 2018

येरुशलम के मुद्दे पर भड़का अमेरिका संयुक्त राष्ट्र के बजट में की कटौती

अमेरिकी सरकार ने संयुक्त राष्ट्र के बजट में अच्छी खासी कटौती का प्रस्ताव तैयार किया है. संयुक्त राष्ट्र के अमेरिकी मिशन के मुताबिक 2018-19 में यूएन के बजट में 28.5 करोड़ डॉलर से ज्यादा कटौती होगी. कटौती यूएन के मैनेजमेंट और सपोर्ट फंक्शन में भी की जाएगी.

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा कि यूएन की “अक्षमता और अतिखर्च” से सब वाकिफ है. हेली के मुताबिक, वह संगठन को “अमेरिकी लोगों की उदारता का फायदा नहीं उठाने” देंगी. यूएन की कार्यक्षमता पर सवाल खड़े करते हुए हेली ने कहा कि बजट कटौती के साथ ही अमेरिकी मिशन “अपने हितों की सुरक्षा करते हुए, संयुक्त राष्ट्र की क्षमता को बेहतर करने के उपाय” भी खोजेगा.

बजट कटौती का फैसला संयुक्त राष्ट्र आम सभा में येरुलशलम पर वोटिंग के ठीक बाद सामने आया है. आम सभा में अमेरिकी दूतावास को येरुशलम ले जाने के फैसले का बहुमत से विरोध हुआ. फैसले के विरोध में 128 वोट पड़े. असल में अमेरिका ने दिसंबर में इस्राएल स्थित अपने दूतावास को तेल अवीव से येरुशलम ले जाने का फैसला किया. इस फैसले का दुनिया भर में विरोध हुआ. इस पर संयुक्त राष्ट्र में वोटिंग भी हुई. वोंटिंग से पहले ही अमेरिका कह चुका था कि येरुशलम के मुद्दे पर उसके खिलाफ वोट करने वालों को नतीजे भुगतने होंगे.

वोटिंग के बाद संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने कहा, “हम इसे तब याद रखेंगे जब हमसे फिर संयुक्त राष्ट्र के लिए सबसे ज्यादा सहयोग दने की बात होगी और तब भी जब बहुत सारे देश हमसे और ज्यादा पैसा देने या फिर अपने प्रभाव का इस्तेमाल उनके फायदे के लिए करने को कहेंगे.”

TOPPOPULARRECENT