Saturday , December 16 2017

योरोपी यूनीयन को नए साल में भी इक़तिसादी बोहरान का सामना !

नई दिल्ली,०३ जनवरी: (यू एन आई) जर्मन चांसलर अनजीला मीरकल (Angela Merkel) समेत मुख़्तलिफ़ योरपी रहनुमाओं ने 2012-ए-के दौरान मज़ीद इक़तिसादी पेचीदगीयों की पेश क़ियासी की है।

नई दिल्ली,०३ जनवरी: (यू एन आई) जर्मन चांसलर अनजीला मीरकल (Angela Merkel) समेत मुख़्तलिफ़ योरपी रहनुमाओं ने 2012-ए-के दौरान मज़ीद इक़तिसादी पेचीदगीयों की पेश क़ियासी की है।

इन का ये इंतिबाह मुशतर्का करंसी यूरो के दस साल मुकम्मल होने पर सामने आया है।मुशतर्का करंसी यूरो के लिए एक और मुश्किल साल के लिए ख़बरदार करने वालों में यूरोज़ोन की बड़ी मआशी ताक़तों जर्मनी और फ़्रांस के रहनुमा भी शामिल हैं।जर्मन चांसलर अनजीला मीरकल ने नए साल के लिए अपने पैग़ाम में कहाकि कर्ज़ों के बोहरान ने हमें अभी तक शश-ओ-पंज में मुबतला कर रखा है।

उन्हों ने कहा कि यूरोप इस् बोहरान से होते हुए आगे बढ़ रहा है, रास्ता तवील है और मुश्किलों के बगै़र तै नहीं होगा।फ़्रांस के सदर नकोला सार्कोज़ी ने कहा कि 2012 ख़तरात से पर साल है, ताहम उन्हों ने इस अज़म का इज़हार भी किया कि फ़्रांस की इक़तिसादी पालिसी माली मंडीयों और रेटिंग एजैंसीयों के मुताबिक़ तै नहीं की जाएगी।

उन्हों ने कहा उस वक़्त दुनिया में जो कुछ हो रहा है, इस से पता चलता है कि 2012ख़तरात से पर होगा, लेकिन इस के साथ ही ये साल भरपूर मवाक़े लिए हुए भी होगा।

अगर हम चैलेंजिज़ का सामना करना जानते हैं तो उम्मीदों से भरा होगा। अगर हम हाथ बांधे खड़े रहे तो खतरों से भरा होगा।फ़्रांसीसी सदर ने कहा: बोहरान से बाहर निकलना, शरह निम्मो के लिए नया मॉडल तशकील देना, नए यूरोप को जन्म देना, ये वो कुछ चैलेंजेज़ हैं जो हमारे मुंतज़िर हैं।यूनान के वज़ीर-ए-आज़म लूकास पापादीमोस ने नए साल के पैग़ाम में कहा एक बहुत ही मुश्किल साल अपने अंजाम को पहुंच रहा है, जिस में बहुत ज़रूरी लेकिन तकलीफ़देह इक़दामात करने पड़ी, और बहुत ही मुश्किल साल आगे भी है।

उधर यूरोपियन सेंट्रल बैंक (ई सी बी) जर्मन शहर फ़्रैंकफ़र्ट में क़ायम अपने सदर दफ़ातिर से पैर को दो यूरो का नया यादगारी सिक्का भी जारी कर रहा है।ई सी बी के सदर मारियो दर्रा ग़ी ने एक यादगारी वीडीयो पैग़ाम में कहा यूरोप और दीगर दुनिया को दरपेश हालिया चैलेंजेज़ के बावजूद यूरोज़ोन के अवाम इतमीनान रख सकते हैं कि ई सी बी अपनी करंसी की क़दर के इस्तिहकाम को बरक़रार रखने की ज़िम्मेदारी पर पूरा उतरेगा।

उधर ख़बररसां इदारे ए एफ़ पी के मुताबिक़ यूरो की दसवीं सालगिरा क़दरे ख़ामोशी से गुज़र गई, जो एक दहाई क़बल इस के आग़ाज़ पर दिखाई देने वाले जश्न से किसी भी तरह मुताबिक़त नहीं रखती थी।

TOPPOPULARRECENT