Wednesday , December 13 2017

रकीबुल ने लड़की सप्लाई की बात कुबूल की

जगन्नाथपुर थाने में पूछताछ के दौरान एक पुलिस अफसर के सामने रंजीत ने लड़की सप्लाई करने की बात कुबूल की है। ज़राये के मुताबिक, रंजीत ने पुलिस को बताया है कि उसने डीएसपी रैंक के एक पुलिस अफसर को लड़की सप्लाई की थी। उसने पुलिस को उस डीएस

जगन्नाथपुर थाने में पूछताछ के दौरान एक पुलिस अफसर के सामने रंजीत ने लड़की सप्लाई करने की बात कुबूल की है। ज़राये के मुताबिक, रंजीत ने पुलिस को बताया है कि उसने डीएसपी रैंक के एक पुलिस अफसर को लड़की सप्लाई की थी। उसने पुलिस को उस डीएसपी का नाम भी बताया है। इसके अलावा उसने कई और लोगों के नाम बताये हैं, जिन्हें वह लड़की सप्लाई कर चुका है।

डीएसपी के पास कई बार भेज चुका है लड़कियों को : रंजीत ने पुलिस को बताया कि झारखंड के एक जिले में मुकर्रर डीएसपी जब रांची पहुंचते थे, तब उसके अशोक नगर रोड नंबर छह वाकेय किराये के मकान या अशोक विहार वाकेय मकान में ठहरते थे। वहां वह लड़कियों को भेजता था। रंजीत ने यह भी बताया कि वह कई बार डीएसपी के पास लड़कियां भेज चुका है।

किये कई खुलासे

पुलिस अफसरों के मुताबिक, रंजीत ने पूछताछ में बताया है कि वह अशोक नगर और अशोक विहार वाकेय रिहाइशगाह का इस्तेमाल बाहर से रांची आनेवाले अफसरों को ठहराने के लिए करता था। इन दोनों रिहाइशगाह पर उन्हीं अफसरों को ठहराता था, जो लड़कियों की मांग करते थे। रंजीत ने कई और चौंकानेवाले खुलासे किये हैं।

इससे पहले केस के तहक़ीक़ करने वाले इंस्पेक्टर हरिश्चंद्र सिंह की कियादत में पुलिस जुमा के दिन के तकरीबन 3.30 बजे उसे जेल से निकाल कर तीन दिन के रिमांड पर ली और जगन्नाथपुर थाना पहुंची। वहां रंजीत से तफसील से पूछताछ शुरू की गयी। पुलिस उससे यह जानने की कोशिश कर रही है कि उसके पास रुपये कहां से आते थे। कौन-कौन रुपये देता था। इसका क्या इस्तेमाल होता था। अफसर उसकी मदद किस वजह से करते थे। पुलिस उससे यह भी जानने की कोशिश करेगी कि वह लड़कियों को वह कहां से लाता था। उसने बताया है कि उसके पास जो रुपये हैं, वह उसकी कंपनी के हैं। अफसरों और वज़ीरों के साथ ताल्लुक होने के सवाल पर रंजीत सिर्फ यही बताता है कि वह अपनी कंपनी के काम से अफसरों और वज़ीरों के पास जाता था। इस वजह से लोग उसे जानते हैं।

TOPPOPULARRECENT