Monday , December 18 2017

राजनैतिक पार्टियों के जरिए काले धन को सफेद किया जा सकता है- चुनाव आयोग

नई दिल्ली। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। देश में आम लोगों की आवाज उठाने के लिए कई सारी राजनीतिक पार्टियां भी बनाई गई हैं। चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक पूरे देश में अब तक 1900 राजनैतिक दल रजिस्टर्ड हैं। इनमें करीब 400 से ज्यादा राजनैतिक पार्टियों ने कभी चुनाव ही नहीं लड़ा है। ऐसे में इन राजनीतिक पार्टियों के जरिए कहीं कालेधन को सफेद करने का खेल न खेला जाएगा।

इस संबंध में आज अंग्रेज़ी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने खबर प्रकाशित की हैं जिसके अनुसार केंद्रीय निर्वाचन आयुक्त नसीम ज़ैदी ने कहा भारत में सबसे ज्यादा रजिस्टर्ड राजनैतिक पार्टियां हैं। ऐसी पार्टियों का इस्तेमाल कहीं काले धन को सफेद करने का गोरखधंधा न शुरु कर दिया जाए, इसके लिए चुनाव आयोग ऐसी पार्टियों के नाम सूची से काटने की प्रक्रिया शुरु कर दी है।

जैदी ने कहा कि इन पार्टियों के नाम सूची से काट दिए जाने पर वे आयकर का छूट पाने से अयोग्य हो जाएंगी। केंद्रीय चुनाव आयोग ने राज्यों के निर्वाचन आयोग के आयुक्तों से रजिस्टर्ड राजनैतिक पार्टियों की सूची भेजने को कहा है। इसके अलावा उनके चंदे की भी जानकारी भी मांगी है।

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ के अनुसार ज़ैदी ने कहा कि इन पार्टियों के नाम सूची में से हट जाने पर वे उस आयकर छूट पाने के अयोग्य हो जाएंगी, जो उन्हें राजनैतिक पार्टी होने के नाते मिलती है. उन्होने बताया कि केंद्रीय चुनाव आयोग ने राज्यों के मुख्य निर्वाचन आयुक्तों से कहा गया है कि वे अपने पास रजिस्टर्ड उन सभी राजनैतिक पार्टियों की सूची उपलब्ध करायें, जिन्होंने अबतक कभी चुनाव नहीं लड़ा है।

राज्य आयोगों से इन पार्टियों द्वारा हासिल किए गए चंदे की जानकारी भी मांगी गई है. समाचारपत्र के मुताबिक, नसीम ज़ैदी ने कहा कि रजिस्टर्ड पार्टियों को इस तरह छंटने का काम हर साल किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT