Thursday , December 14 2017

राजय केबीनेट‌ में तबदीलीयों का इमकान

* उपचुनाव‌ के मायूस करने वालें नतीजों पर सोनीया गांधी की नाराज़गी * पार्टी को मजबुत‌ और नज़म जबत‌ पर पकड‌ मज़बूत करने पर ज़ोर, हाईकमान से किरण कुमार रेड्डी की मुलाक़ात

* उपचुनाव‌ के मायूस करने वालें नतीजों पर सोनीया गांधी की नाराज़गी
* पार्टी को मजबुत‌ और नज़म जबत‌ पर पकड‌ मज़बूत करने पर ज़ोर, हाईकमान से किरण कुमार रेड्डी की मुलाक़ात
हैदराबाद / (सियासत न्यूज़) सदर कांग्रेस सोनीया गांधी ने चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी से मुलाक़ात के दौरान उपचुनाव‌ में पार्टी के मायूस करने वालें नतिजों पर अपनी नाराज़गी ज़ाहिर की, जब कि चीफ़ मिनिस्टर ने कोर कमेटी के सदस्यों से मुलाक़ात करते हुए इस नाकामी की वज़ाहत पेश की।

हाईकमान के बुलाने पर चीफ़ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी और सदर प्रदेश कांग्रेस कमेटी बी सत्य नारायणा आज दिल्ली पहुंचे और दोनों ने पार्लीमेंट हाउस पहुंच कर पार्लीमेंट्री कामों के मंत्री पी के बंसल से मुलाक़ात करते हुए यू पी ए के राष्ट्रपती पद के उम्मीदवार प्रण‌ब मुख‌र्जी के पर्चा नामज़दगी पर दस्तख़तें कीं।

ताज्जुब इस बात का है कि हाईकमान ने दोनों लिडरों को एक साथ दिल्ली बुलाया, लेकिन‌ सोनीया गांधी ने सिर्फ चीफ़ मिनिस्टर को मुलाक़ात का वक़्त दिया। पार्टी ज़राए(सुत्रो) ने बताया कि चीफ़ मिनिस्टर ने रियासत की ताज़ा सियासी सूरत-ए-हाल, उपचुनाव‌ के नतिजें, जगन के जेल जाने और तेलंगाना के इलावा दुसरे बहुत से मस्लों पर गौर‌ किया।

इस मुलाक़ात में सोनीया गांधी के सियासी मुशीर(सलाहकार) अहमद पटेल भी मौजूद थे। पिछ्ले हफ़्ते उपचुनाव‌ के नतिजों के एलान‌ के बाद राजधानी दिल्ली का चीफ़ मिनिस्टर का ये पहला दौरा है। सोनीया गांधी ने उपचुनाव‌ में सत्तादार‌ कांग्रेस के मायूस करने वालें मुज़ाहरे पर अपनी नाराज़गी का इज़हार किया।

चीफ़ मिनिस्टर ने उन्हें बताया कि सी बी आई की तरफ‌ से जगन को गिरफ़्तार करने से वाई ऐस आर कांग्रेस को कामयाबी हासिल हुई। इस हमदर्दी की लहर के बावजूद कांग्रेस ने दो हलक़ों में कामयाबी हासिल की। सोनीया गांधी ने आंधरा प्रदेश में कांग्रेस की कमज़ोरी और लोगों कि ताईद से महरूमी के इलावा मंशूर में किए गए वादों पर अमल का जायज़ा लिया। नज़म और जबत‌ पर अपनी पकड‌ मज़बूत करने के साथ कांग्रेस को मजबुत करने के लिए ज़रूरी इक़दामात का मश्वरा दिया।

कांग्रेस असेंबली सदस्यों के वाई एस आर कांग्रेस में शामिल होने की वजूहात मालुम‌ करते हुए उन्हें रोकने और सदारती इंतिख़ाबात के दौरान प्रण‌ब मुख‌र्जी की कामयाबी के लिए पार्टी के चुने गये अवामी नुमाइंदों को मुत्तहिद रखने पर ज़ोर दिया। चीफ़ मिनिस्टर ने वज़ारत में तबदीली के इलावा तय‌ ओहदों पर भरती के ज़िमन में भी बातचित‌ की, जिस पर मिसिज़ गांधी ने सदारती इंतिख़ाब तक इंतिज़ार का मश्वरा दिया।इस के बाद चीफ़ मिनिस्टर ने कांग्रेस कोर कमेटी के सदस्य प्रण‌ब मुख‌र्जी, चिदम़्बरम, ए के एनटोनी और मर्कज़ी वज़ीर-ए-सेहत ग़ुलाम नबी आज़ाद से भी मुलाक़ात और रियासत की ताज़ा सूरत-ए-हाल पर बातचीत की।

दिल्ली में चीफ़ मिनिस्टर की सरगर्मीयां देखने के बाद कांग्रेस हलक़ों में ये अफ़्वाहें गशत कर रही हैं कि रियास्ती केबीनेट‌ में तबदीलीयां हो सकती हैं। चीफ़ मिनिस्टर के साथ दिल्ली पहुंचने वाले सदर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने सिर्फ ग़ुलाम नबी आज़ाद से मुलाक़ात की।

TOPPOPULARRECENT