राजा की तरफ़ से वज़ीर-ए-आज़म का मश्वरा नज़रअंदाज किया गया

राजा की तरफ़ से वज़ीर-ए-आज़म का मश्वरा नज़रअंदाज किया गया
नई दिल्ली 23 अक्टूबर : ( पी टी आई ) : दिल्ली की एक अदालत ने आज कहा कि 2G असपकटरम की तख़सीसात-ओ-हराज पर वज़ीर-ए-आज़म के मश्वरा को इस वक़्त के वज़ीर टेलीकॉम ए राजा की तरफ़ से नज़रअंदाज किए जाने से इस मुआमला में गहिरी साज़िश का इज़हार होता है ।

नई दिल्ली 23 अक्टूबर : ( पी टी आई ) : दिल्ली की एक अदालत ने आज कहा कि 2G असपकटरम की तख़सीसात-ओ-हराज पर वज़ीर-ए-आज़म के मश्वरा को इस वक़्त के वज़ीर टेलीकॉम ए राजा की तरफ़ से नज़रअंदाज किए जाने से इस मुआमला में गहिरी साज़िश का इज़हार होता है ।

वज़ीर मौसूफ़ ने लाईसैंस के लिए दाख़िला फ़ीस पर नज़र-ए-सानी के बिशमोल इस ज़िमन में तमाम क़वाइद-ओ-ज़ाबतों की सरिया ख़िलाफ़वरज़ी की थी । सी बी आई की ख़ुसूसी अदालत के जज ओ पी सयानी ने कहा कि कोई बैरूनी एजैंसी / अदालत ने दाख़िला फ़ीस पर नज़र-ए-सानी के लिए नहीं कहा था ।

अगरचे ये एक पालिसी पर मबनी मसला था लेकिन हुकूमत / आमिला की आली तरीन अथॉरीटी ख़ुद इस बारे में सवाल कररही थी और अगर बात यही थी तो मुल्ज़िम ए राजा की बहैसीयत वज़ीर टेलीकॉम-ओ-इन्फ़ार्मेशन टैक्नालोजी में ज़िम्मेदारी थी कि वो इस मसला पर मुनासिब अंदाज़ में ग़ौर करते ।

मज़ीद बरआँ ख़ुद वज़ीर-ए-आज़म ने उन्हें दाख़िला फ़ीस पर नज़र-ए-सानी करने की हिदायत की थी । इस के इलावा वज़ीर-ए-क़ानून भी इस मसला को अहम तरीन तसव्वुर कररहे थे । वुज़रा के ग्रुप और फ़ीनानस सैक्रेटरी ने भी इस वजह से लाईसैंसों की इजराई के अमल को मुअत्तल कर दिया था ।

अदालत ने कहा कि बादियुन्नज़र में यू ए ऐस लाईसैंसों की इजराई का सारे अमल से गहिरी साज़िश की बू आती है । वज़ारत टेलीकॉम-ओ-इन्फ़ार्मेशन टैक्नालोजी एक मुआविन वज़ारत है जो वज़ीर फ़ीनानस / फ़ीनानस सैक्रेटरी के अहकाम-ओ-हिदायात पर अमल करने की पाबंद है ।

Top Stories