Tuesday , September 25 2018

राज्यसभा में बहुमत होता तो विधेयक लाकर राम मंदिर का निर्माण होता : यूपी के उपमुख्यमंत्री

नई दिल्ली: ”  उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य  ने कहा है की जरूरत पड़ी तो केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए कानून का सहारा ले सकती है.” .

मौर्य ने इस बात पर जोर दिया कि अगर अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाया जाता है तो ये विश्व हिंदू परिषद के दिवंगत नेता अशोक सिंघल, अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास के पूर्व प्रमुख रामचंद्र दास परमहंस और फायरिंग में मारे गए कारसेवकों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

राम मंदिर की संभावनाओं के बारे में बात करते हुए मौर्य ने कहा, ”जब ऐसी जरूरत आन पड़ेगी और बिल लाने के अलावा कोई और चारा नहीं होगा, ऐसे में मुझे पूरा विश्वास है कि ऐसी स्थिती में और जब हमारे पास दोनों सदनों (लोकसभा, राज्यसभा) में पर्याप्त संख्या होगी, हमें इन दोनों बातों का ध्यान रखना पड़ेगा.”

यूपी के उपमुख्यमंत्री मौर्य ने आगे कहा, ”इस समय, संसद में हमारे पास पर्याप्त संख्या नहीं है. अगर हम इस बारे में लोकसभा में बिल लाते हैं तो भी राज्यसभा में हमारी संख्या कम है, ऐसे में राज्यसभा में यह बिल निश्चित तौर पर हार जाएगा. भगवान राम का हर भक्त ये बात जानता है. कोर्ट जल्द ही इस पर अपना निर्णय दे देगा. जिस दिन हमारे पास ताकत होगी, उस ताकत का सदुपयोग होगा, दुरुपयोग नहीं होगा.”

यह पूछे जाने पर कि क्या अनुसूचित जाति और जनजाति क्रूरता निवारण अधिनियम में हुए बदलाव से बीजेपी के वोटर्स पर इसका कोई असर पड़ेगा. मौर्य ने कहा, ”सरकार का इरादा बिल के जरिए किसी को परेशान करने का नहीं है, उत्तर प्रदेश का उपमुख्यमंत्री होने के नाते, मैं कह सकता हूं कि यूपी में कोई झूठा केस रजिस्टर नहीं होगा और किसी को भी जबरन परेशान नहीं किया जाएगा लेकिन अगर कोई व्यक्ति एससी या एसटी समुदाय के लोगों को परेशान करेगा तो उसे छोड़ा नहीं जाएगा.”

TOPPOPULARRECENT