Friday , September 21 2018

राज्य सभा में रंगनाथ मिश्रा, ठाकरे और दीगर को ज़बरदस्त ख़राज-ए-अक़ीदत

नई दिल्ली, २३ नवंबर, (पीटीआई) राज्य सभा में आज शिवसेना सरबराह आँजहानी बाल ठाकरे और राज्य सभा के आठ साबिक़ अरकान बिशमोल साबिक़ वज़ीर-ए-दिफ़ा के सी पंत और साबिक़ चीफ़ जस्टिस आफ़ इंडिया रंगनाथ मिश्रा को ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश किया गया।

नई दिल्ली, २३ नवंबर, (पीटीआई) राज्य सभा में आज शिवसेना सरबराह आँजहानी बाल ठाकरे और राज्य सभा के आठ साबिक़ अरकान बिशमोल साबिक़ वज़ीर-ए-दिफ़ा के सी पंत और साबिक़ चीफ़ जस्टिस आफ़ इंडिया रंगनाथ मिश्रा को ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश किया गया।

पार्लीमेंट के सरमाई सेशन के आग़ाज़ पर सदर नशीन हामिद अंसारी ने बाल ठाकरे, साबिक़ अरकान वी वी कोकीलाया, मिश्रा, जागेश देसाई, बी पी सिंघल, बी सत्य नारायण रेड्डी, अनंत देव शंकर दवे, कैलाश पती मिश्रा को ज़बरदस्त ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश किया।

अपने ताज़ियती ख़िताब में हामिद अंसारी ने बाल ठाकरे की शख़्सियत को एक सह अंगेज़ शख़्सियत से ताबीर किया जिन्होंने अवाम के अंदर ख़ुसूसी तौर पर महाराष्ट्रा के अवाम के लिए जज़बा ख़ुद्दारी पैदा करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया। फ़्री प्रेस जर्नल नामी अख़बार से कार्टूनिस्ट की हैसियत से अपना करीयर शुरू करने वाले बाल ठाकरे ने 966 में शिवसेना की दाग़ बैल डाली ताकि महाराष्ट्रा के अवाम के मसाइल की यकसूई की जा सके।

अंसारी ने कहा कि आँजहानी के सी पंत जो मंसूबा बंदी कमीशन के नायब सदर नशीन भी थे और अपनी ख़िदमात फ़रवरी 1999 से जून 2004 तक अंजाम दी थीं, 15 नवंबर को 81साल की उम्र में चल बसे।

रंगनाथ मिश्रा के बारे में हामिद अंसारी ने कहा कि वो एक इंतिहाई मुनकसिर‍ अल मिज़ाज शख़्स थे जिनका इंतेक़ाल 13 सितंबर को 85 साल की उम्र में हुआ। अक्टूबर 1990 से नवंबर 1991 तक वो चीफ़ जस्टिस आफ़ इंडिया के जलील-उल-क़दर ओहदा पर फ़ाइज़ रहे।

इलावा अज़ीं वो नैशनल ह्यूमन राईट्स कमीशन के पहले सदर नशीन भी थे जिन्होंने 1993 से 1996 ख़िदमात अंजाम दी। अनंत रे देव शंकर दवे एक लेकचरर थे जिन्होंने अपनी ज़िंदगी ग़रीब और पसमांदा तबक़ात के अफ़राद के लिए वक़्फ़ कर दी थी, 74 साल की उम्र में इनका इंतेक़ाल 7अक्टूबर को हुआ।

उन्होंने राज्य सभा में दो मीयादों के लिए गुजरात की नुमाइंदगी की। मिस्टर दवे के इंतेक़ाल से मुल्क एक आला दर्जा के समाजी कारकुन और पार्लेमेंट्रीन से महरूम हो गया।

इसी तरह सत्य नारावना रेड्डी 6 अक्टूबर को 85 साल की उम्र में चल बसे। उन्होंने पार्लीमेंट में दो मीयादों के लिए आंधरा प्रदेश की नुमाइंदगी की।

TOPPOPULARRECENT