राज ठाकरे ने की शरई कानून की वकालत, अपराध पर नियंत्रण के लिए ‘शरीअत’ को बताया अनिवार्य

राज ठाकरे ने की शरई कानून की वकालत, अपराध पर नियंत्रण के लिए ‘शरीअत’ को बताया अनिवार्य
Click for full image

अहमदनगर। महाराष्ट्र के अहमदनगर में एक नाबालिग लड़की से गैंगरेप और हत्या के मामले में भाजपा के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार की निंदा करते हुए महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने कहा है कि महिलाओं और बच्चों के खिलाफ गंभीर अपराधों पर नियंत्रण के लिए शरीयत (इस्लामी) जैसे कानून की जरूरत है।

नवभारत टाइम्स में छपी खबर के अनुसार, उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के हाथों और पैरों को काट डालना चाहिए जो बच्चों और महिलाओं से बलात्कार और उनकी हत्या करते हैं। उन्होंने इस बात पर ध्यान दिलाते हुए कहा,कि ‘हमारे सामान्य कानूनी प्रक्रिया पर फैसला आने में अनावश्यक रूप से लंबा समय लग जाता है और परोक्ष रूप से अपराधियों का हौसला बढ़ता है।’ जिले के कोपर्डी गांव में 13 जुलाई को तीन लोगों ने 15 वर्षीय लड़की के साथ बर्बर तरीके से बलात्कार और फिर उसकी हत्या कर दी। राज ठाकरे ने कहा, ‘इस तरह की घटनाओं का हो जाना राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति का परिणाम है और वर्तमान सरकार खुद को पिछली कांग्रेस। एनसीपी के सरकार से भी बदतर साबित हो रही है।

Top Stories