Thursday , April 26 2018

रात में नहाना आपकी त्वचा और बॉडी क्लॉक के लिए बेहतर है सुबह के बनिस्पत

जब शावर से नहाने की बात आती है, तो ज्यादातर लोग सुबह या बिस्तर पर जाने के पहले समाज का चुनाव करते हैं। स्नान करने के लिए उचित समय पर विशेषज्ञों की सलाह कुछ अलग-अलग है, जिसमें कहा गया है कि रात में शावर बेहतर नींद देता है, जबकि दूसरे सुबह के वक़्त स्नान को काम काज के हिसाब से बेहतर माना है।

डेली मेल ऑनलाइन ने स्नान के अध्ययन के इतिहास को स्क्रॉल किया और स्कोर को व्यवस्थित करने के लिए न्यू यॉर्क-आधारित त्वचाविदों से बात की। उसने पाया कि रात में स्नान पसीना, तेल और दिन के एलर्जी को धोता है जिसेसे आपको बेहतर नींद और उज्ज्वल त्वचा दे देती है।

न्यूयॉर्क स्थित त्वचाविद् डॉ समर जाबिर ने डेली मेल ऑनलाइन से कहा कि रात की शावर के साथ स्नान दिन के गंदगी को दूर करता है। उन्होंने कहा, ‘यदि आप पूरे दिन बाहर काम कर रहे हैं तो आपको बिस्तर पर जाने से पहले स्नान करना चाहिए। इससे आपके शरीर पर पसीने और तवाचा की गंदगी बाहर आ जाते हैं। उन्होंने कहा कि दिन के अंत तक आपके शरीर को सभी प्रकार के एलर्जी शामिल हो जाते हैं जो आपकी त्वचा को नुकसान कर सकता है।

डॉ जाबेर ने कहा, ‘यदि आप बाहर हैं तो एलर्जी का शिकार हो सकते हैं, जिसे फूलों में परागकण होता है। तो आप उसे अपनी त्वचा से निकालना चाहते ही हैं, इसलिए बेहतर है की सोने से पहले स्नान कर लें जिसेसे आपकी त्वचा धूल जाएगी और आप तारो ताजा महसूस करेंगे। लेकिन उन्होंने कहा कि एक स्नान की परवाह किए बिना, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि रात को बिस्तरा पर जाने के पहले अपना चेहरा जरूर धो लें। मुँहासे रोकने के लिए आपके लिए ये असरदार है।

स्नान आपके शरीर के तापमान को विनियमित करते हैं जो आपको बेहतर नींद प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि शाम को शॉवर लेना और नींद से कम से कम 90 मिनट पहले आपके शरीर को गर्मी और पर्याप्त नींद की अनुमति मिलेगी। अनुसंधान कहते हैं कि स्नान एक तनाव रिलीवर के रूप में काम करती है क्योंकि वे कोर्टिसोल के स्तर को कम करते हैं।

कोर्टिसोल आपके अधिवृक्क ग्रंथियों द्वारा बनाई गई एक स्टेरॉयड हार्मोन है जो आपके शरीर को तनाव पर प्रतिक्रिया देने में मदद करता है, रक्त शर्करा को विनियमित करता है और संक्रमण को नियंत्रित करता है। नींद के विशेषज्ञ डा जेनेट कैनेडी ने द न्यू यॉर्क टाइम्स को बताया की ‘शरीर प्राकृतिक रूप से सर्दैडियन लय के सिंक्रनाइज़ेशन में सोते समय के दृष्टिकोण के रूप में शांत हो जाता है।’ ‘स्नान कृत्रिम रूप से तापमान को तेजी से ठंडा होने के बाद फिर से बढ़ाता है, जो नींद में तेजी लाने लगता है।’

स्नान नींद के लिए एक अच्छा तरीका है जो मांसपेशियों में तनाव पैदा कर नींद में सहायता कर सकता है। दूसरी बात रात में स्नान से आपकी त्वचा को पुनर्जन्म करती है, न केवल आपके चेहरे पर बल्कि आपके पूरे शरीर पर। इसका मतलब है कि जब आप सोते हैं तो आप मृत त्वचा कोशिकाओं को हटा रहे हैं और नए त्वचा का निर्माण कर रहे हैं।

यही कारण है कि डॉ जाबेर ने सभी श्रृंगार या प्रदूषकों को सोने के लिए जाने से पहले चेहरे से हटाने पर जोर देते हैं। उन्होंने कहा, ‘आप शाम के बजाय अपना चेहरा रात में भी धो सकते हैं।’ रात में स्नान करें पर पूरे शरीर में आपकी त्वचा मृत त्वचा कोशिकाओं से छुटकारा पाने के लिए बहुत आसान बना देगा, जिससे सुबह आपकी त्वचा उज्ज्वल होगी।

डॉ जाबेर ने कहा ‘मैं व्यक्तिगत रूप से सुबह स्नान करता हूं क्योंकि यह मुझे जागता है, लेकिन यह वास्तव में सभी की व्यक्तिगत पसंद पर निर्भर है।’ हार्वर्ड के एक अध्ययन से पता चला कि सुबह में स्नान उन लोगों की मदद कर सकती है जो काम के कारण तनाव में महसूस कर रहे हैं या रचनात्मक होने के दबाव में हैं। उसी तरह शाम को कोर्टिसोल का स्तर कम करने के लिए आपको रात में आराम करने में सहायता मिलती है, सुबह में उसी हार्मोन को जारी करने से तनाव कम हो सकता है, रचनात्मकता का रास्ता खोल सकता है।

TOPPOPULARRECENT