Sunday , December 17 2017

राबर्ट वडेरा के खिलाफ इलहाबाद हाई कोर्ट में अर्ज दाश्त‌

राबर्ट वडेरा के खिलाफ इलहाबाद हाई कोर्ट में अर्ज दाश्त‌ इलहाबाद हाईकोर्ट लखनऊ बंच में आज अशोक पांडे एडवोकेट ने मफ़ाद-ए-आम्मा के तहत एक रिट दाख़िल की है

राबर्ट वडेरा के खिलाफ इलहाबाद हाई कोर्ट में अर्ज दाश्त‌
इलहाबाद हाईकोर्ट लखनऊ बंच में आज अशोक पांडे एडवोकेट ने मफ़ाद-ए-आम्मा के तहत एक रिट दाख़िल की है

उस में दरख़ास्त गुज़ार ने सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वडेरा की डी एल एफ कंपनी से हरियाणा में हुई अराज़ी के सौदे के मुआमले की जांच कराने की अपील‌ की है। अशोक पांडे ने इस मुआमले में गुजिश्ता मार्च में भी मफ़ाद-ए-आम्मा की उन हाईकोर्ट में दाख़िल की थी जिस को अदालत ने ये कह कर उन्हें वापिस करदी थी कि वो पहले उस मुआमले में मर्कज़ी हुकूमत के मुताल्लिक़ा महिकमा से रुजू करें।

अशोक पांडे एडवोकेट ने उस मुआमले में वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह के दफ़्तर से रुजू क्या , वहां से मौसूला जवाब की बुनियाद पर अशोक पांडे एडवोकेट ने हाईकोर्ट में मुकर्रर रिट दरख़ास्त दाख़िल की है। दूसरी तरफ़ इलहाबाद हाईकोर्ट लखनऊ बंच में सहाफ़ी सचीवा नंद गुप्ता उर्फ़ सच्चे ने रियासती हुकूमत की जानिब से मुख़्तलिफ़ कार्पोरेशनों सरकारी इदारों के जेरेन बनाए गए अफ़राद को लाल पति की सरकारी गाड़ी उन की वज़ीर ममलकत का दर्जा दीए जाने के ख़िलाफ़ मफ़ाद-ए-आम्मा की रिट दाख़िल की है

उस पर हाईकोर्ट की बंच इस हफ़्ता समाअत करेगी। अखिलेश यादव इक़तिदार में रह‌ने के बाद अब तक तकरीबन 61 अफ़राद को मुख़्तलिफ़ सरकारी इदारों का सदर नशीन नामज़द करचुकी है उनको वुज़राए मम्लकत का दर्जा और लाल बत्ती लगी गाड़ियां दे चुकी है।

TOPPOPULARRECENT