Friday , August 17 2018

रामपाल को 28 नवंबर तक जेल

मुतनाज़ा रामपाल को आज पंजाब और हरियाणा हाइकोर्ट ने 28 नवंबर तक अदालती हिरासत में भेज दिया है| इसके साथ ही कोर्ट ने सतलोक आश्रम में रामपाल को गिरफ्तार करने के लिए चलाए गए पूरे ऑपरेशन की पुलिस से मालूमात मांगी है| कोर्ट ने पुलिस से सतलो

मुतनाज़ा रामपाल को आज पंजाब और हरियाणा हाइकोर्ट ने 28 नवंबर तक अदालती हिरासत में भेज दिया है| इसके साथ ही कोर्ट ने सतलोक आश्रम में रामपाल को गिरफ्तार करने के लिए चलाए गए पूरे ऑपरेशन की पुलिस से मालूमात मांगी है| कोर्ट ने पुलिस से सतलोक आश्रम में मिले हथियारों की जानकारी भी मांगी है|

इससे पहले जुमेरात के रोज़ दोपहर सख्त सेक्युरिटी के बीच पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट लाया गया. अदालत में उनके खिलाफ तौहीन के मामले की सुनवाई होगी|

हाईकोर्ट ने इससे पहले साल 2006 के कत्ल के एक मामले में उन्हें दी गई जमानत रद्द कर दी थी| रामपाल को पंचकुला के अस्पताल से एक पुलिस थाने के हवालात लाया गया था और उन्हें कैदियों के ट्रक से अदालत लाया गया |

रामपाल ने मीडिया से कहा कि ‘मुझ पर लगे इल्ज़ामात झूठे है, तशद्दुद और हंगामे में मेरा हाथ नहीं|’ रामपाल ने कहा, ‘मैंने किसी को बंधक नहीं बनाया|’

कल रात तकरीबन सवा नौ बजे हिसार के सतलोक आश्रम से गिरफ्तारी के बाद देर रात रामपाल को पंचकूला लाया गया| पंचकूला में सरकारी अस्पताल में उनकी मेडिकल जांच कराई गई |जांच करने वाले डॉक्टर के मुताबिक रामपाल की हालत बेहतर है |

सतलोक आश्रम के अंदर पुलिस का सर्च ऑपरेशन चल रहा है | यहां पर आश्रम में ईंटे पत्थर ज़्यादा तादाद में रखे हुए हैं| यही ईंट पत्थर पुलिस पर बरसाए गए थे| यहां पर ट्रॉली में ईंट-पत्थर जमा दिख रहा है |

आंसू गैस के गोले से बचने के लिए आश्रम में बोरे भींगो कर रखे गए थे ताकि बचा जा सके| यहां पर कई ऐसे सामान देखने को मिले हैं जिनसे पुलिस पर रामपाल के हामी हमला कर रहे थे |

14 दिन चले ड्रामे के बाद आखिरकार कल रात करीब सवा नौ बजे पुलिस रामपाल को उसी के सतलोक आश्रम से पकड़कर ले गई| रामपाल की गिरफ्तारी की खबर जंगल की आग की तरह आसपास के इलाके में फैल गई| इस खबर पर इलाके के आसपास के लोग खुशियां मनाते नजर आए |

हिसार रेंज के पुलिस इंस्पेक्टर अनिल के राव ने बताया कि रामपाल को कल (जुमेरात) एक अदालत में पेश किया जाएगा | पुलिस डायरेक्टर जनरल एस एन वशिष्ठ ने कहा कि मुतनाज़ा “खुद साख्ता साधू” को एक मुहिम के बाद हिरासत में ले लिया गया है| मुहिम बहुत मुश्किल थी क्योंकि सेक्युरिटी फोर्स को रामपाल के कमांडों के एहतिजाज का सामना करना पड़ा |

हरियाणा के सीएम के OSD जवाहर यादव ने भी मीडिया के सामने आकर रामपाल की गिरफ्तारी की तस्दीक की और इसे हरियाणा पुलिस की बड़ी कामयाबी बताया |

आपको बता दें कि रामपाल को गिरफ्तार करने में पुलिस का खासी मशक्कत करनी पड़ी | पुलिस और रामपाल के हामियों के बीच झड़पें भी हुईं जिसमें कम से कम 6 लोगों की मौत हो गई | हरियाणा के डीजीपी ने बताया कि जिन ख्वातीन की मौत हुई है उनके नाम सविता, संतोष, मलकीत और राजबाला हैं| डीजीपी के मुताबिक आश्रम में हुई दो मौत नेचुरल हैं जबकि चार मौतों की जांच जारी है| जिन लोगों की मौत हुई है उनमें डेढ़ साल का एक बच्चा भी शामिल है |

मंगल के रोज़ पुलिस से झड़प के मामले में रामपाल के खिलाफ बगावत का मुकदमा दर्ज किया है| पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से दो गैर जमानती वारंट जारी होने के बावजूद संत रामपाल अदालत में पेश नहीं हुए| 10 नवंबर को ही हरियाणा पुलिस को फटकार लगाते हुए हाईकोर्ट ने 17 नवंबर की सुबह 10 बजे तक संत रामपाल को कोर्ट में पेश करने का हुक्म दिया था. अब पेशी की तारीख 21 नवंबर हो चुकी है |

हरियाणा के वज़ीर ए आला मनोहर लाल खट्टर के ओएसडी जवाहर यादव का कहना है कि पूरी प्लानिंग के तहत रामपाल को गिरफ्तार किया गया है| उन्हें कहां ले जाया गया है इसके बारे में फिलहाल मीडिया से बताना सही नहीं है|

जवाहर यादव का कहना है कि रामपाल की कोशिश थी कि पुलिस की कार्रवाई बिना प्लानिंग हो, वहां भगदड़ मचे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों की मौत हो और इस तरह वे गिरफ्तारी से बच जाएं, लेकिन पुलिस बेहतरीन प्लानिंग के तहत उन्हें गिरफ्तार किया है| इससे पहले पुलिस ने रामपाल के 425 हामियों को गिरफ्तार किया था जिसमें आश्रम के कुछ बड़े आफीसर भी शामिल थे| मंगल के रोज़ पुलिस ने सतलोक आश्रम से तकरीबन 15000 लोगों को बाहर निकाला था|

TOPPOPULARRECENT