Tuesday , September 25 2018

रामविलास पासवान के खिलाफ़ बेटी और दामाद ने खोला मोर्चा, पिता के खिलाफ़ हाजीपुर से दे सकती हैं टक्कर!

2019 लोकसभा चुनावों से पहले एलजेपी प्रमुख रामविलास पासवान की मुश्किलें कम होती हुई नजर नहीं आ रही है। विपक्ष के विरोध के बाद पासवान के खिलाफ घर के लोगों ने ही मोर्चा खोल दिया है।

रामविलास पासवान की बेटी आशा पासवान ने ऐलान किया है कि अगर उन्हें आरजेडी से टिकट दिया जाता है तो वह अपने पिता और उनकी पार्टी खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

पिता और उनकी पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान करते हुए आशा पासवान ने हाजीपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की उम्मीद जताई है।

आशा पासवान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि पिता ने हमेशा चिराग पासवान को ही आगे बढ़ाने का सोचा है। उन्होंने कहा कि रामविलास पासवान शुरुआत से उनकी अनदेखी करते हुए आ रहे हैं, जिसके कारण उन्होंने आरजेडी खेमे का रुख करने का फैसला लिया है।

पिता के खिलाफ बोलते हुए आशा ने कहा कि राजनीतिक गलियारा हो या फिर घर रामविलास पासवान, बेटे चिराग को ही तवज्जों देते हैं। उन्होंने कहा कि राजनीतिक गलियारों में बेशक उनके पिता साथ न खड़े हो, लेकिन उनके पति अनिल साधु उनका हाथ थामेंगे और चुनाव लड़ने में मदद करेंगे।

अनिल साधु ने भी रामविलास पासवान के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। बता दें कि अनिल साधु पिछले चुनाव में ही आरजेडी में शामिल हुए थे।

अनिल ने पासवान पर दलितों को बंधुआ मजदूर समझने का आरोप लगाते हुए कहा कि ‘पासवान ने सभी अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के लोगों का अपमान किया है. दलित उनके बंधुआ मजदूर नहीं हैं।

उन्होंने कहा, ‘हम पति-पत्नी पूरी तरह से लोजपा प्रमुख से टकराने को तैयार हैं। आरजेडी हम पति-पत्नी को पार्टी में जहां कहीं भी प्रयोग करना चाहे, हम उसके लिए तैयार हैं।

रामविलास पासवान को दलितों के नहीं, बल्कि सवर्णो का नेता हैं।
बहरहाल रामविलास पासवान को अब अपने ही घर में ही चुनौती मिलने लगी है। आगामी लोकसभा चुनाव में पासवान के दामाद या बेटी उनके खिलाफ ही खम ठोंकते नजर आ सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT