Wednesday , June 20 2018

राष्ट्रीय एकता दल का जल्द ही समाजवादी पार्टी में विलय

लखनऊ: एकीकरण प्रस्ताव अस्वीकरण के दो महीने बाद सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी कुख्यात राजनीतिज्ञ मुख्तार अंसारी की राष्ट्रीय एकता दल की भागीदारी के लिए जाहिरा तौर पर तैयार हो गई है। जबकि अगले साल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी की नींव का विस्तार करने के लिए यह कदम उठाया गया।

समाजवादी पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि नेताजी (मुलायम सिंह) ने पार्टी में कौमी एकता दल के एकीकरण से सहमत कर लिया और इस ख़ुसूस में बहुत जल्द नियमित घोषणा जा सकता है। गौरतलब है कि स्वतंत्रता दिवस समारोह में सपा प्रमुख ने अपने भाई और राज्य मंत्री शिवपाल यादव का पुरजोर समर्थन और बाद उक्त प्रस्ताव परदोबारह गतिविधियां शुरू हो गई हैं इससे पहले 21 जून को शिवपाल से एकीकरण का प्रस्ताव करने पर यादव परिवार में गंभीर मतभेद पैदा हो गए हैं क्योंकि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुख्तार अंसारी के आपराधिक पृष्ठभूमि के बीच राष्ट्रीय एकता दल के एकीकरण के विरोध पर अटल थे.बताया जाता है कि राष्ट्रीय एकता दल के प्रभाव उत्तर प्रदेश के पूर्वी क्षेत्र में पाया जाता है जो दो विधायकों माफिया डॉन मुख्तार और उनके भाई हैं।

TOPPOPULARRECENT