Saturday , December 16 2017

रास्त बैरूनी सरमाया कारी मसला पर पार्लीमैंट में हंगामा कार्रवाई मुल्तवी

नई दिल्ली २९ नवंबर ( पी टी आई) हुकूमत और अप्पोज़ीशन में आज रीटेल शोबा में रास्त ग़ैर मुल्की सरमाया कारी के मसला पर ताज़ा तसादुम होगया । जब कि पार्लीमैंट की कार्रवाई इस फ़ैसले को वापिस लेने के मुतालिबात के दरमयान मफ़लूज हो गई ।

नई दिल्ली २९ नवंबर ( पी टी आई) हुकूमत और अप्पोज़ीशन में आज रीटेल शोबा में रास्त ग़ैर मुल्की सरमाया कारी के मसला पर ताज़ा तसादुम होगया । जब कि पार्लीमैंट की कार्रवाई इस फ़ैसले को वापिस लेने के मुतालिबात के दरमयान मफ़लूज हो गई ।

कल एक कुल जमाती इजलास तलब किया गया है ताकि तात्तुल ख़तन किया जा सके । पार्लीमैंट की कार्रवाई में ख़ललअंदाज़ी में तशवीश में मुबतला वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने सदर नशीन यू पी ए सोनीया गांधी से आज दिन में दो मर्तबा और सीनीयर वुज़रा से मुलाक़ात की । जब कि इस बात के इशारे मिल रहे हैं कि हुकूमत ना तो अपना फ़ैसला वापिस लेने और ना उस मसला पर दुबारा ग़ौर करने केलिए तैय्यार है । ज़राए के बमूजब हुकूमत अपने फ़ैसले से ग़ालिबन दस्तबरदार नहीं होगी और ना इसे मुल्तवी रखेगी ।

हुकूमत ज़्यादा से ज़्यादा अप्पोज़ीशन के बाअज़ अंदेशों को क़वाइद की ताय्युन के वक़्त पेशे नज़र रख सकती ही ताकि कराने की दूकानें आलमी रीटेलर्स के सरबराही के सिलसिला में शामिल की जा सकें । आज दिन भर तेज़ रफ़्तार तबदीलीयों के दौरान हुकूमत को ख़ुद को तन्हा महसूस करना पड़ा। रीटेल शोबा में बाअज़ ग़ैर मुल्की सरमाया कारी के मसला पर हलीफ़ पार्टीयां तृणमूल कांग्रेस और डी ऐम के भी अपोज़ीशन के साथ शामिल होकर इस फ़ैसले से दसतबरदारी का मुतालिबा कर रही थीं।

डी ऐम के जो फ़ैसले की मुख़ालिफ़त में तृणमूल कांग्रेस के साथ शामिल होगई थी ने इस फ़ैसले को ख़तरनाक क़रार देते हुए कहा कि रीटेल तिजारत में बाअज़ ग़ैरमुल्की सरमाया कारी से लाखों छोटे ताजिर ग़रीब और औसत तबक़ा के सारिफ़ीन मुतास्सिर होंगे ।

दोनों हलीफ़ पार्टीयों के बरसर-ए-इक़तिदार यूपी ए ने 18 -18अरकान-ए-पार्लीमैंट हैं और कांग्रेस के बाद मख़लूत यू पी ए हुकूमत में ये सब से बड़ा ग्रुप है जब कि कांग्रेस मख़लूत हुकूमत की क़ियादत कररही है । इन पार्टीयों ने फ़ैसले से फ़ौरी दसतबरदारी का मुतालिबा किया है । अपोज़ीशन ने नायाब इत्तिहाद का मुज़ाहरा किया और मर्कज़ी हुकूमत की जानिब से रीटेल शोबा में 51फ़ीसद रास्त सरमाया कारी की ।

मल्टी ब्रांड रीटेल को इजाज़त दे दी । क़ाइद लोक सभा मर्कज़ी वज़ीर फ़ीनानस परनब मुकर्जी सयासी पार्टीयों के फ़्लोर लीडर्स से मुलाक़ात करेंगे ताकि तात्तुल ख़तन किया जा सके । वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने सीनीयर मर्कज़ी वुज़रा वज़ीर फ़ीनानस परनब मुकर्जी वज़ीर-ए-दाख़िला पी चिदम़्बरम वज़ीर-ए-दिफ़ा ए के अनटोनी और वज़ीर-ए-तजारत आनंद शर्मा से आज शाम मुलाक़ातें कीं और कल हुकूमत की जानिब से इख़तियार की जाने वाली हिक्मत-ए-अमली पर तबादला-ए-ख़्याल किया ।

क़ियास आराईयां की जा रही है कि क्या हुकूमत रास्त ग़ैर मुल्की सरमाया कारी के मसला को मुल्तवी करदेगी ताकि पार्लीमैंट की कार्रवाई जारी रह सके । लेकिन मर्कज़ी वज़ीर बराए पारलीमानी उमोर पी के बंसल ने कहा कि हुकूमत को यक़ीन है कि रास्त ग़ैर मुल्की सरमाया कारी का फ़ैसला वसीअ तर क़ौमी मुफ़ाद में है और इस से समाज के हर तबक़ा को फ़ायदा पहुंचेगा ।

कल का इजलास अप्पोज़ीशन के साथ बातचीत के ज़रीया इस बात को यक़ीनी बनाने की कोशिश होगी कि पार्लीमैंट की कार्रवाई जो गुज़शता पाँच दिन से मुअत्तल होचुकी है दुबारा शुरू होसके । पार्लीमैंट की कार्रवाई सरमाई सुशन के आग़ाज़ के बाद से ही हंगामों की नज़र होती जा रही है ।

केरला से ताल्लुक़ रखने वाले कुछ कांग्रेस अरकान ने भी आज मुल्लापेरियार डैम के मसला पर ऐवान के वस्त में पहूंच कर एहतिजाज किया जबकि तलंगाना राष़्ट्रा समीती के सरबराह मिस्टर के चन्द्र शेखर राव् और तॆलंगाना से ताल्लुक़ रखने वाले कुछ दूसरा अरकान ने अलैहदा रियासत की तशकील का मुतालिबा किया ।

लोक सभा में आज तक़रीबन हर गोशे में पले कारडज़ देखे गए । कई अरकान रीटेल शोबा में रास्त बैरूनी सरमाया कारी की इजाज़त ना दी जाय के पल्ले कारडज़ थामे हुए थे जबकि कुछ अरकान अलैहदा तलंगाना बिल मुतआरिफ़ कीजिए का बयानर थामे हुए थे ।

केरला के अरकान मुल्लापेरियार डैम ख़तरा मैं । केराला में 30 लाख अफ़राद को बचाए का बयानर थामे हुए थे ।क़ब्लअज़ीं जब ऐवान-ए-बाला की कार्रवाई का आग़ाज़ हुआ बी एस पी जे डीयू अना डी ऐम के और समाजवादी पार्टी के अरकान ने रास्त बैरूनी सरमाया कारी के फ़ैसले के ख़िलाफ़ नारे लगाए । उस वक़्त सदर नशीन हामिद अंसारी नशिस्त पर थे ।

बाएं बाज़ू के केराला के अरकान-ए-पार्लीमैंट ने मुल्लापेरियार डैम के मसला पर ऐवान के वस्त में पहूंच कर एहतिजाज किया । सदर नशीन ने बयानर ना उठाने और ऐवान के वस्त से चले जाने की बारहा अपीलें कीं जिन का कोई असर नहीं हुआ । उस वक़्त उन्हों ने ऐवान की कार्रवाई को दोपहर तक केलिए मुल्तवी करदिया था । जैसे ही वक़फ़ा के बाद कार्रवाई का आग़ाज़ हुआ गड़बड़ दुबारा शुरू हो गई जिस पर कार्रवाई को दिन भर के लिए मुल्तवी कर दिया गया ।

TOPPOPULARRECENT