Tuesday , June 19 2018

राहुल गांधी के खिलाफ साजिश के सुबूत अमेरिका देगा

सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद सीबीआइ कांग्रेस जनरल राहुल गांधी को बदनाम करने की जांच की तैयारी में नए सिरे से जुट गई है। इस सिलसिले में इंटरनेट पर कबिल ऐतराज मवाद (आपत्तिजनक सामग्री /Offensive content )अपलोड करने के सुबूत जुटाने के लिए ज

सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद सीबीआइ कांग्रेस जनरल राहुल गांधी को बदनाम करने की जांच की तैयारी में नए सिरे से जुट गई है। इस सिलसिले में इंटरनेट पर कबिल ऐतराज मवाद (आपत्तिजनक सामग्री /Offensive content )अपलोड करने के सुबूत जुटाने के लिए जांच एजेंसी जल्द ही अमेरिका को दरखास्त (लेटर रोगेटरी-एलआर) भेजेगी।

इलाहाबाद हाई कोर्ट के हुक्म पर सीबीआइ इस मामले में पहले ही एफआइआर दर्ज चुकी है, पर सुप्रीम कोर्ट के स्टे आर्डर की वजह से जांच रुक गई थी।

सीबीआइ के एक आला आफीसर ने कहा कि राहुल गांधी के खिलाफ इंटरनेट पर Offensive content अपलोड करने वाले पर शिकंजा कसने के लिए पुख्ता सबूत जुटाना जरूरी है। चूंकि और गूगल जैसी वेबसाइटों, जिन पर ये Offensive content अपलोड की गई थी, के सर्वर ( Server) अमेरिका में हैं। इसीलिए सरकारी तौर से अमेरिका ही बता सकता है कि इस content को अपलोड करने के लिए किस आइपी एड्रेस ( IP Address) का इस्तेमाल किया गया।

इसकी बुनियाद पर मुल्ज़िमों को अदालत के ज़रीए सजा दिलाई जा सकती है। उनके मुताबिक इस ताल्लुक में जांच एजेंसी पहले ही एलआर तैयार कर चुकी है और अब उसे जल्द ही अमेरिका भेज दिया जाएगा। इस मामले में सपा के बड़े लीडरों के किरदार की जांच के बारे में पूछे जाने पर सीनीयर अफसर ने कहा कि अदालत के फैसले की कापी मिलने के बाद इस सिम्त ( दिशा) में कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर कुछ मुल्ज़िमों को हिरासत में लेकर भी पूछताछ की जा सकती है।

TOPPOPULARRECENT